कलाकृति जो दर्शाती है कचरे की बड़ी समस्या

मेरठ

 28-07-2018 01:39 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

दुनिया भर में, हर महीने लाखों टन अपशिष्ट या तो भूमि में दब जाता है या समुद्रों में डाल दिया जाता है, जो पर्यावरण की बड़ी समस्‍या बनती जा रही है। मेरठ में ही प्रतिदिन 800 मीट्रिक टन की अपष्टि पैदा होती है। भविष्य के अस्तित्व के लिए वैकल्पिक ऊर्जा स्रोत का नवीनीकरण और पुनःचक्रण करने की आवश्यकता को देखते हुए इस महीने, शहर की नगर निगम द्वारा एक विस्तृत परियोजना रिपोर्ट अपशिष्ट पदार्थों के माध्‍यम से ऊर्जा,खाद और बायोगैस (biogas) के उत्‍पादन की आवश्यकता पर जोर देती है।

यह सतर्कता है प्राधिकारी के, जो अनुपचारित कचरे की समस्या को समझकर उपयोग ढून्ढ निकाल रहे है। अपशिष्ट के विशाल पैमाने को और उससे जुड़े पारिस्थितिक समस्या को सामने लाना आवश्यक है, इसको ध्यान में रखते हुए विश्व भर के छविकारों ने अपने आधुनिक कलाकृतियों के माध्यम से उसपर चर्चा करने कीप्रेरणा देते हैं।

भारत के प्रसिद्द कलाकार, विवान सुन्दरम की एक मशहूर कलाकृति है ‘ट्रैश’ (Trash)। इसमें उन्होंने पूंजीवादी खपत से उत्पन्न हुई अपशिष्ट, और प्रयुक्त सामग्री कि अर्थव्यवस्था को दर्शाई है; दिल्ली में इसके एक प्रदर्शनी में उन्होंने वेस्ट पिकर (waste-picker) को भी इस कलाकृति के निरमान में शामिल किया।

घाना, अफ्रीका में पीटर ह्यूगो नाम के फोटोग्राफर नें तस्वीरों के माध्यम से इलेक्ट्रोनिक (electronic) अपशिष्ट के एक विशाल गड्ढे को दर्शाई है, जिस वजह से आस-पास के हज़ारों लोगों का घरेलू वातावरण दूषित है। इस कलाकृति का नाम है ‘परमानेंट एरर’ (Permanent Error), इलेक्ट्रोनिक भाषा में जिसका मतलब है स्थायी त्रुटी। ‘लैंडफिलहरमोनिक’ (Landfillharmonic) पाराग्युए में वादक का समूह है, जिन्होंने अपशिष्ट से वाद्य बनाये हैं । ऐसे विश्व में कई कलाकृति हैं, जो अपशिष्ट और पुनरावृत्ति के विषयों को दिलचस्प आकर दे रहे हैं

संदर्भ:
1. https://www.amarujala.com/uttar-pradesh/meerut/61532121727-meerut-news
2. http://www.gallerychemould.com/exhibitions/vivan-show-2008/
3. https://www.mnn.com/lifestyle/arts-culture/stories/when-art-is-garbage
4. http://www.gupmagazine.com/portfolios/pieter-hugo/permanent-error



RECENT POST

  • वृक्षों का एक लघु स्वरूप 'बोन्साई '
    शारीरिक

     13-12-2018 04:00 PM


  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM