नए तरह के उपभोक्तावाद से गेहूं उत्पादन को फायदा

मेरठ

 27-07-2018 02:35 PM
स्वाद- खाद्य का इतिहास

कृषक भारत की रीढ़ की हड्डी के रूप में कार्य करता है। आज वर्तमान में भारत में कृषि बड़े पैमाने पर की जाती है। भारत के कई शहर अपने कृषि उत्पादों के लिए जाने जाते हैं। जैसे अगर देखा जाए तो बागपत गन्ना उत्पादन, नागपुर संतरा उत्पादन, जौनपुर आलू उत्पादन ठीक वैसे ही मेरठ अपने गेहूं उत्पादन के लिए अत्यंत मशहूर है। मेरठ में गेहूं बड़े पैमाने पर उत्पादित किया जाता है। विभिन्न कृषि में उत्पादित वस्तुओं से कई सारे व्यावसायिक उत्पाद बनाये जाते हैं जैसे कि आलू से चिप्स, दाल आदि से नमकीन और गेहूं से बिस्कुट आदि।

बिस्कुट का व्यापार वर्तमान काल में पारंपरिक ग्लूकोस बिस्कुट से हटकर अनाज के बने महंगे बिस्कुटों की तरफ बढ़ रहा है। अनाज के बिस्कुट से ज्यादा शारीरिक शक्ति और स्वास्थ सम्बंधित फायदे पाए जाते हैं। 2016 में किये गए एक सर्वेक्षण के अनुसार भारत में लोग अपनी बढ़ती आमदनी की वजह से आम खर्च से 80 फ़ीसदी स्वास्थ्य वर्धक खाने पर खर्च करने को तैयार हैं। और यही कारण है कि स्वास्थ्य सम्बंधित खानों के कारण भारत में यह एक बड़े बाज़ार के रूप में निखर कर सामने आने लगा है।

इस व्यापार में आटे के बिस्कुट, जैविक उत्पाद, हरी चाय आदि शामिल हैं। रिपोर्ट के अनुसार यह बाजार 10 फ़ीसदी प्रति वर्ष की दर से बढ़ रहा है तथा वर्तमान में यह 10,352 करोड़ रूपए के व्यापार के रूप में उभर कर सामने आया है। इसी आधार पर भारत बेकरी के उत्पाद में भी अपनी पैठ बना रहा है। भारत अमेरिका और चीन के बाद तीसरे स्थान का सबसे ज्यादा बेकरी का उत्पाद तैयार करने वाला राष्ट्र है। भारतीय बेकरी बाजार आज 3,295 करोड़ का है जिसमें पाव रोटी और बिस्कुट का व्यापार कुल 82 फ़ीसदी है।

अगर बिस्कुट की बात की जाए तो यह 20 फ़ीसदी की दर से प्रत्येक वर्ष बढ़ रहा है। बिस्कुट आदि बनाने में गेहूं के आटे का प्रयोग किया जाता है। इस आधार पर यह अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि जिस प्रकार से यह व्यापार इतने बड़े पैमाने पर बढ़ रहा है, यह कहना गलत नहीं होगा कि आने वाले कुछ समय में मेरठ के गेहूं उत्पादन को एक पंख लग सकता है।

संदर्भ:
1.https://qz.com/784617/the-additional-cost-of-eating-healthy-in-india/
2.https://www.firstpost.com/business/from-glucose-to-grains-indias-biscuit-industry-slowly-goes-premium-297395.html
3.http://www.fnbnews.com/Top-News/indian-market-has-huge-potential-for-bakery-products-38710



RECENT POST

  • कम्बोह वंश के गाथा को दर्शाता मेरठ का कम्बोह दरवाज़ा
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     22-04-2019 09:00 AM


  • लिडियन नाधास्वरम (Lydian Nadhaswaram) के हुनर को सलाम
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     21-04-2019 07:00 AM


  • अपरिचित है मेरठ की भोला बियर की कहानी
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     20-04-2019 09:00 AM


  • क्यों मनाते है ‘गुड फ्राइडे’ (Good Friday)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:41 AM


  • तीन लोक का वास्तविक अर्थ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 12:24 PM


  • यिप्रेस (Ypres) के युद्ध में मेरठ सैन्य दल ने भी किया था सहयोग
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     17-04-2019 12:50 PM


  • मेरठ का खूबसूरत विवरण जॉन मरे के पुस्तक में
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-04-2019 04:10 PM


  • पतन की ओर बढ़ता सर्कस
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:37 PM


  • 'अतुल्य भारत' की एक मनोरम झलक
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     14-04-2019 07:20 AM


  • रामायण और रामचरितमानस का तुलनात्मक विवरण
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:30 AM