हॉलीवुड से प्रेरित भारत के कुछ हास्य अदाकार

मेरठ

 22-07-2018 10:00 AM
द्रिश्य 2- अभिनय कला

हास्य किसे नहीं पसंद। हास्य ही वह एक चीज़ है जो हमें हमारी रोज़मर्रा की जिंदगी की परेशानियों से सेकंड भर में दूर ले जाता है। भारत में हास्य को विशेष महत्त्व दिया जाता है और समय के साथ यह बढ़ता भी जा रहा है जिसके साक्ष्य हैं आजकल के भारतीय स्टैंड-अप (Stand-Up, एक तरह की हास्य कला) कलाकार। तो आइये आज बात करते हैं कुछ हास्य कलाकारों और उनकी प्रेरणा की।

यदि बात की जाये विश्व में आज तक के सबसे प्रसिद्ध हास्य कलाकारों की तो एक नाम नहीं बल्कि डो नाम हमारे ज़हन में आते हैं, स्टैन लौरेल और ओलिवर हार्डी जो प्रसिद्ध हैं ‘लौरेल एंड हार्डी’ (Laurel and Hardy) के नाम से। नीचे दिया गया वीडियो लौरेल और हार्डी की कला का एक नमूना है। वीडियो में हार्डी और लौरेल एक मधुशाला में बैठकर शराब पीते दिखाए गए हैं जहाँ वे लौरेल की बीवी को उल्लू बनाकर आते हैं, परन्तु मज़ा तब आता है जब श्रीमती लौरेल भी वहाँ आ पहुँचती हैं, देखिये और ठहाके भरिये:


लौरेल और हार्डी इतने मशहूर थे कि उनकी अदाकारी से भारतीय फिल्म इंडस्ट्री (Film Industry) ने प्रेरणा लेते देर नहीं की। यह वो समय था जब रणजीत फिल्म कम्पनी दूसरे भारतीय स्टूडियो (Studios) जैसे प्रभात स्टूडियोज़, न्यू थिएटर्स और बॉम्बे टॉकीज़ आदि को टक्कर देने की फ़िराक में थी। और यही वो समय था जब भारत को अपने खुदके लौरेल और हार्डी मिले ‘दिक्षित और घोरी’ के रूप में। मनोहर जनार्धन दिक्षित और नज़ीर अहमद घोरी को एक साथ पहली बार 1932 में जयंत देसाई की फिल्म ‘चार चक्रम’ में देखा गया था। फिल्म में और कई बड़े कलाकार भी थे परन्तु जनता को दिक्षित और घोरी की जोड़ी सबसे ज़्यादा भाई। फिर क्या था, एक के बाद एक फिल्म के साथ यह जोड़ी कमाल करती गई और लोगों के दिलों में बसती गई।

परन्तु यह सफ़र यहीं ख़त्म नहीं होता। एक बार फिर भारत को अपने लौरेल और हार्डी लौटाने का ज़िम्मा लिया याकुब और गोपे की जोड़ी ने। ‘पतंगा’ (1949), ‘बेकसूर (1950), ‘सगाई’ (1951) जैसी फिल्मों से इस जोड़ी ने लौरेल और हार्डी की हास्य जादूगरी को फिर दर्शाया जिसे आप ऊपर दिए गए पहले वीडियो में देख सकते हैं। कुछ समय में इस जोड़ी के सदस्य याकुब और गोपे अपने-अपने रास्ते चले गए। परन्तु इस समय तक भारत में हास्य इतना विकसित हो चुका था कि अब हॉलीवुड से प्रेरणा लेने की बजाय भारतीय कलाकार अपनी एक नयी पहचान बना रहे थे।

याकुब और गोपे की कलाकारी का एक और नमूना नीचे दिया गया है, देखें और अपना रविवार बनायें बेहतर:


सन्दर्भ:

1.https://www.cinestaan.com/articles/2016/dec/3/3218/india-s-very-own-laurel-and-hardy



RECENT POST

  • वृक्षों का एक लघु स्वरूप 'बोन्साई '
    शारीरिक

     13-12-2018 04:00 PM


  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM