भारत का इतिहास कैलेंडर के माध्यम से

मेरठ

 10-07-2018 03:01 PM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

क्या आपको याद है घर की एक दीवार पर, पंखे की हवा से लहराता वो कैलेंडर।हाँ वही, जो बचपन में चित्रों में हमारी रूचि जगाता था। हर महीने एक नया चित्र, और कुछ-कुछ में तो चित्र से सम्बंधित दो पंक्तियाँ भी। वास्तव में, समय के साथ कैलेंडरों में भी काफी बदलाव आये हैं और आज ये केवल एक उपयोगिता की वस्तु नहीं बल्कि एक कलात्मक वस्तु बन चुके हैं जो कि इन्हें लटकाने वाले के मिजाज़ के बारे में भी कुछ कह जाते हैं। तो आइये आज फिर एक बार अतीत का सफ़र करते हैं, कैलेंडर के माध्यम से।

शुरूआती कैलेंडर अधिकतर हिन्दू देवी देवताओं से प्रेरित थे। कैलेंडर के पुराने हो जाने के बाद भी लोग उसे फेंकते नहीं थे क्योंकि उसमें छपे चित्र से उनकी एक आस्था जुड़ी होती थी। तथा इस प्रकार के कैलेंडर काफी लोकप्रिय थे तथा आज तक भी बनाये जा रहे हैं।

1940 और 1950 के दशक में सभी देशवासियों के बीच देश प्रेम की भी एक लहर दौड़ रही थी। ऐसा हो ही नहीं सकता था कि कैलेंडरों में इस भावना को नहीं व्यक्त किया जाता तथा कई कैलेंडर पाए जाते थे जिनमें गांधी, नेहरु, बोस आदि के चित्र मिल जाते थे।

1960 के दशक में एक नए प्रकार से कैलेंडरों का प्रयोग एक बड़े पैमाने पर होने लगा, विज्ञापन। कंपनियों ने इस बात पर ध्यान दिया कि एक व्यक्ति दिन में कम से कम एक बार कैलेंडर की ओर तो ज़रूर देखता है और एक महीने तक वह एक ही पन्ना रोज़ देखता है। तो यदि उस एक पन्ने पर अपने उत्पादों के चित्र लगा दिए जाएँ तो वे ज़रूर एक बड़ी मात्रा में लोगों के दिमाग में बैठ जाएगा। कई भिन्न प्रकार के विज्ञापन ऐसे कैलेंडरों में देखने को मिल जाते थे, जैसे साईकिल, बीड़ी, वाशिंग पाउडर, चलचित्र (फिल्म) आदि।

समय के साथ ग्राहकों में भी एक जागरूकता आई कि यदि वे एक चित्र को महीने भर तक देखने वाले हैं तो यही बेहतर है कि वह चित्र उनका चित्त प्रसन्न भी करे। और इस तरह अब कई कैलेंडर में कलाकृतियाँ भी छपने लगीं तथा इनसे इन्हें खरीदने वाले के व्यक्तित्व के बारे में भी कई चीज़ें जानने को मिलती हैं।

संदर्भ:
1. http://www.tribuneindia.com/2004/20040104/spectrum/main1.htm



RECENT POST

  • मेरठवासियों के लिए सिर्फ 170 किमी दूर हिल स्टेशन
    पर्वत, चोटी व पठार

     18-12-2018 11:58 AM


  • लुप्त होने के मार्ग पर है बुनाई और क्रोशिया की कला
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     17-12-2018 01:59 PM


  • दुनिया का सबसे ठंडा निवास क्षेत्र, ओयम्याकोन
    जलवायु व ऋतु

     16-12-2018 10:00 AM


  • 1857 की क्रांति में मेरठ व बागपत के आम नागरिकों का योगदान
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-12-2018 02:10 PM


  • मिठास की रानी चीनी का इतिहास
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     14-12-2018 12:12 PM


  • वृक्षों का एक लघु स्वरूप 'बोन्साई '
    शारीरिक

     13-12-2018 04:00 PM


  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM