नीलगाय पहुंची टेक्सास, क्या हुआ अंजाम?

मेरठ

 09-07-2018 02:13 PM
निवास स्थान

नीलगाय भारतीय उपमहाद्वीप में पाया जाने वाला एक बड़ा बारहसिंगा प्रकार का जीव है। यह जीव कद काठी में बारहसींगा की तरह विशालकाय होता है जिनमें से नर नीलगाय शरीर में मादा से बड़ा और ताकतवर होता है। वहीं, मादा नर से भिन्न होती हैं, मादाओं का रंग हल्का भूरा होता है तथा नरों को सींग होते हैं लेकिन मादाओं को नहीं। वैसे तो यह एक हिरण परिवार का पशु है, लेकिन हम इसे गाय के परिवार से जोड़ कर देखते हैं। तराई क्षेत्र और उत्तर भारत वह जगह है जहां नीलगाय मुख्य रूप से पाया जाता है, हालांकि दक्षिणी भारत में 2 असाधारण स्थान ऐसे भी हैं जहां पर ये पाए जाते हैं। नर और मादा दोनों के गर्दन पर छोटे छोटे कड़े बाल होते हैं। नीलगाय इतने गतिशील होते हैं कि यदि वे चाहें तो वे एक घोड़े से भी तेज़ दौड़ सकते हैं।

नीलगाय एक अत्यंत सुंदर जीव है जो कि जंगलों और खेतों आदि में पाया जाता है। ब्रिटिश काल में अनेक जीवों को भारत से विदेशों मे ले जाया गया था, जैसे कि हाथी, गैंडा आदि। इन्हीं जानवरों में नीलगाय भी एक ऐसा जीव है जिसे विदेश ले जाया गया था। भारत से अमेरिका में करीब 1930 से 1940 के बीच कुछ अमेरीकियों द्वारा भारत से नीलगाय आयात किया गया था। उदहारण के तौर पर टेक्सास के एक खेत ‘किंग रैंच’ (King Ranch) ने भारत से नीलगाय ले जाने की शुरुआत की थी। नीलगाय ऐसा जीव है जो कि खाद्य की उपलब्धता पाने पर अपनी संख्या में अप्रतिम वृद्धि करता है। और इसके परिणामस्वरूप आज टेक्सास में नीलगाय की तादात इतनी बढ़ गयी है कि उनका शिकार किया जा रहा है। उसी राज्य में आजकल रैंच शिकारियों को आकर्षित करने के लिए मनोरंजक और आर्थिक रूप से भी प्रोत्साहित कर रहे हैं।

यह जानवर देखने मे अत्यंत सुंदर है और यह एक शांत प्रवृत्ति का जानवर है जो किसी भी प्रकार की आक्रामकता नहीं दिखाता है। यह जानवर खेतों में फसलों आदि को खाता है जिसकी वजह से उत्तर प्रदेश की सरकार ने इसकी हत्या करने की इजाज़त दे दी। सरकार का यह मानना था कि यह जीव कृषि में व्यवधान लाता है और किसानों की उपज पर प्रभाव पड़ता है। अब यहां पर यह जानने की जरूरत है कि आख़िर यह जरूरत ही क्यूँ पड़ी कि ऐसे जानवर का शिकार किया जाए, इसका मामला वास्तव में मानव की जनसंख्या वृद्धि से जुड़ा हुआ है। मानव की जनसंख्या ने इस प्रकार से वृद्धि की, कि हमने इन जानवरों के प्राकृतिक स्थल पर अपना खेत, घर आदि बना लिया। हमें यह जानने की आवश्यकता है कि क्या हमें इन जानवरों का शिकार करना चाहिए या नहीं, क्यूंकि ये तो अपने प्राकृतिक स्थान पर ही हैं। ये तो हम मानव हैं जिन्होंने इनके प्रभाव क्षेत्र में सेंधमारी का कार्य किया है।

कितने ही जीव इसी प्रकार से विलुप्त हो चुके हैं। उनमें नीलगाय बच गयी हैं और हम इसके प्रति सहानुभूति रखने के बजाय इनके शिकार की तरफ अग्रसर हैं, कहीं ऐसा ना हो कि ये जानवर पूर्ण रूप से विलुप्त हो जायें, यदि हम इसी प्रकार से इनको मारना जारी रखें।

संदर्भ:
1.http://www.factzoo.com/mammals/nilgai-blue-bull-india-antelope.html
2.https://tshaonline.org/handbook/online/articles/tcn01
3.https://www.themonitor.com/article_68883719-99ac-5a10-b4e5-14f61a00e837.html
4.http://articles.latimes.com/2007/apr/29/news/adna-antelope29
5.https://www.hindustantimes.com/india/akhilesh-govt-mulls-bounty-on-pesky-nilgais/story-WqJOhEySjLMM1S7ZxjS1dN.html
6.https://indianexpress.com/article/india/india-news-india/if-you-love-gai-nilgai-so-much-keep-them-at-shakhas-nitish-kumar-tells-rss-bjp-2958438/



RECENT POST

  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM


  • प्राचीन समय में होता था नक्षत्रों के माध्यम से खगोलीय घटनाओं का पूर्वानुमान
    जलवायु व ऋतु

     03-12-2018 05:15 PM