दलाई लामा के जन्मदिवस पर लें उनसे ये 10 सीख

मेरठ

 06-07-2018 05:29 PM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

कई लोग ऐसा समझते हैं कि दलाई लामा एक व्यक्ति का नाम है. जिन्हें नहीं पता, उन्हें बता दें कि असल में दलाई लामा एक ऐसी उपाधि है जो तिब्बत के लोगों के अध्यात्मिक गुरुओं को दी जाती है। यह उपाधि एक गुरु से अगले गुरु को आगे से आगे दी चली जाती है। और वर्तमान में जो दलाई लामा हम सबके बीच उपस्थित हैं वे अब तक के 14वें दलाई लामा हैं। उनका असल नाम तेंज़िन ग्यात्सो है और 22 फ़रवरी 1940 से उन्हें यह उपाधि प्राप्त है। माना जाता है कि परम पावन दलाई लामा आज धरती पर जीवित सबसे बुद्धिजीवी मनुष्यों में से एक हैं।

आज 6 जुलाई 2018 को दलाई लामा का 83वां जन्मदिवस है। तो चलिए क्यों ना आज के दिन से थोड़ा समय निकाला जाए दलाई लामा के कुछ कथनों से जीवन की कुछ सीख लेने के लिए:

प्रेरणादायी विचार-
1. अपनी क्षमताओं को जान कर और उनमें यकीन करके ही हम एक बेहतर विश्व का निर्माण कर सकते हैं।
2. एक सकारात्मक क्रिया करने के लिए तुम्हें एक सकारात्मक दृष्ठि रखनी होगी।
3. हमारे जीवन का उद्देश्य प्रसन्न रहना है।
4. खुशहाली बनी बनाई नहीं मिलती उसके लिए तुम्हें कदम बढ़ाना पड़ेगा।
5. सहिष्णुता के अभ्यास में, एक दुश्मन ही सबसे अच्छा शिक्षक है।

धार्मिक विचार-
1. हम धर्म और ध्यान के बिना रह सकते हैं, लेकिन हम मानव स्नेह के बिना जीवित नहीं रह सकते। 2. मेरा धर्म बहुत सरल है। मेरा धर्म दयालुता है।
3. सभी प्रमुख धार्मिक परम्पराएं मूल रूप से एक ही संदेश देती हैं – प्रेम, दया और क्षमा। महत्वपूर्ण बात यह है कि ये हमारे दैनिक जीवन का हिस्सा होनी चाहिये।
4. यदि आप एक विशेष विश्वास या धर्म में आस्था रखते हैं तो ये अच्छी बात है| लेकिन आप इसके बिना भी जीवित रह सकते हैं।
5. मंदिरों की कोई ज़रूरत नहीं है, जटिल दर्शन की भी कोई ज़रूरत नहीं है। मेरा दिमाग और मेरा दिल मेरे मंदिर हैं, मेरा दर्शन दया है।

संदर्भ:
1. http://badhtechalo.com/dalai-lama-quotes-in-hindi/
2. https://www.hindisahityadarpan.in/2011/12/dalai-lama-quotes-in-hindi-hindi-quotes.html



RECENT POST

  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM


  • प्राचीन समय में होता था नक्षत्रों के माध्यम से खगोलीय घटनाओं का पूर्वानुमान
    जलवायु व ऋतु

     03-12-2018 05:15 PM