नए विज्ञान 'नैनोटेक्नोलॉजी' के उपयोग

मेरठ

 22-06-2018 02:17 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

नैनो प्रौद्योगिकी (Nano Technology) का प्रयोग हमारी दिनचर्या में हमें अक्सर दिखाई देता है। यह एक अत्यंत ही नया विषय या व्यवस्था है परन्तु इसका महत्व अभूतपूर्व है। नैनो प्रौद्योगिकी के अनुप्रयोगों के प्रचलन ने समाज में एक अहम भूमिका का निर्वहन किया है। 21वीं सदी की शुरुआत में नैनो प्रौद्योगिकी के अनुप्रयोगों की उपलब्धता वाणिज्यिक उत्पादों में देखने को मिली। इलाज से लेकर के खेल तक के साधन नैनो प्रौद्योगिकी से बनाये जा रहे हैं। नैनो प्रौद्योगिकी में दैनिक प्रयोग के कॉस्मेटिक और खाद्य उत्पाद में यदि देखा जाए तो टाईटेनियम डाइऑक्साइड (Titanium Dioxide) और जिंक ऑक्साइड (Zinc Dioxide) के अति सूक्ष्म कण शामिल हैं। खाने के पैकेट में, कपड़ो में, कीटनाशक में, चांदी के पट्टी आदि में हम नैनोकणों को पाते हैं।

वर्तमान काल में 1300 से अधिक निर्माता नैनो प्रौद्योगिकी से जुड़ी वस्तुएं बनाने का कार्य करते हैं। विभिन्न देशों में कई बीमारियों के इलाज के लिए नैनो तकनीकी का प्रयोग किया जा रहा है जिसके सहारे लोगों का इलाज हो रहा है। नैनो तकनीकी की ही देन है कि भारत समेत विश्व के कई देशों में गहन से गहन बीमारियों का इलाज होना संभव हो पाया है। पर्यावरण की शुद्धता को बनाये रखने के लिए, पानी को स्वच्छ बनाने के लिए, भूमिगत जल को शुद्ध करने के लिए नैनो प्रौद्योगिकी का प्रयोग होना शुरू हो गया है जिससे पर्यावरण में व्याप्त छोटे से छोटा कण भी पहचाना जा सकता है और उसकी जाँच हो सकती है। किसी भी देश की सेना उसका एक अहम हिस्सा होती है, इसके कंधे पर पूरे देश की सुरक्षा की जिम्मेदारी होती है। यही कारण है कि नैनो तकनीकी सेना के लिए कारगर साबित होती है। सेना के सामान नैनो तकनीकी से बनाये जाने का प्रतिफल यह है कि एक सैनिक कम वजन का ज्यादा से ज्यादा शस्त्र अपने साथ रख सकता है।

नैनोबायोटेक्नोलॉजी (Nanobiotechnology) का महत्व भी नैनो अनुप्रयोगों में देखने को मिलता है। खेल के सामानों में भी इस तकनीकी का प्रयोग कर के उनकी गुणवत्ता का विकास हुआ है जैसे कि गोल्फ के खेल की छड़ी में बड़े बदलाव आये हैं। नैनो प्रौद्योगिकी से इस प्रकार के यंत्र बनाये जाते हैं जो कि कम से कम ऊर्जा ले कर ज्यादा से ज्यादा कार्य करें, इससे ऊर्जा की बचत भी होती है। वर्तमान काल में हमारे द्वारा प्रयोग में लाया जाने वाला मेमोरी कार्ड नैनो तकनीकी का ही हिस्सा है जिसके द्वारा हम सैकड़ों जी.बी. डाटा (Data) एक छोटे से कार्ड में रख लेते हैं। खेती में भी नैनो तकनीकी का प्रयोग किया जाता है। आज मेरठ में इस तकनीकी का प्रयोग आम लोगों द्वारा किया जा रहा है। चाहे वह मोबाइल हो या पानी साफ़ करने की मशीन सभी जगहों पर इस तकनीकी का नमूना हम देख पाते हैं।

1. https://en.wikipedia.org/wiki/Applications_of_nanotechnology
2. https://www.omicsonline.org/open-access/applications-of-nanotechnology-2155-983X-1000131.php?aid=52204
3. http://ccweek.com/article-2630-everyday-applications-of-nanotechnology.html
4. https://www.nano.gov/nanotech-101/special



RECENT POST

  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM


  • प्राचीन समय में होता था नक्षत्रों के माध्यम से खगोलीय घटनाओं का पूर्वानुमान
    जलवायु व ऋतु

     03-12-2018 05:15 PM


  • अफ्रीका की जंगली भैंसे
    स्तनधारी

     02-12-2018 11:50 AM