Machine Translator

मेरठ और आभूषणों का व्यापार

मेरठ

 09-06-2017 12:00 PM
म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण
भारतीय आभूषणों का इतिहास करीब 5,000 साल पुराना है| आभूषण पहनने की लालसा व्यक्तियों मे शुरूआती समय से ही थी| भारत आभूषण निर्माण व इसे प्रयोग करने मे हमेशा से अग्रणी रहा है| मेरठ मे प्राचीन काल से ही परम्परागत आभूषणों का कार्य होता आ रहा है| मेरठ के आभूषणों कि चर्चा पूरे भारत मे है, यहाँ इनका अपना वैश्विक बाज़ार व हस्तकला केंद्र है| यहाँ के आभूषणों का बाज़ार व बनाने की प्रक्रिया 1908 में शुरू हुई थी| इस दौर के पहले मेरठ के आभूषण वैश्विक पटल पर मशहूर नहीं थे| उस समय हीरा बुलियन बैंक ने बने बनाये आभूषणों की बिक्रि शुरू कि जो परम्परागत उधारी व्यवसाय से बिल्कुल अलग था| इस नये कार्य ने आभूषण के क्षेत्र को नए व्यवसाय तथा रोजगार से अवगत कराया|

RECENT POST

  • सिन्धु सभ्यता के लेख
    ध्वनि 2- भाषायें

     10-07-2020 05:22 PM


  • कैसे उत्पन्न होता है टिड्डी का झुंड
    तितलियाँ व कीड़े

     10-07-2020 05:29 PM


  • एक महत्वपूर्ण त्रिपक्षीय विश्व समूह है, रूस-भारत-चीन समूह
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     08-07-2020 06:44 PM


  • मेरठ के आलमगीरपुर का समृद्ध इतिहास
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     08-07-2020 07:41 PM


  • भाषा स्थानांतरण के फलस्वरूप गुम हो रही हैं विभिन्न क्षेत्रीय बोलियां
    ध्वनि 2- भाषायें

     07-07-2020 04:50 PM


  • मेरठ और चिकनी बलुई मिट्टी के अद्भुत उपयोग
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     06-07-2020 03:34 PM


  • क्या अन्य ग्रहों में होते हैं ग्रहण
    जलवायु व ऋतु

     04-07-2020 07:22 PM


  • भारत के शानदार देवदार के जंगल
    जंगल

     03-07-2020 03:12 PM


  • विभिन्न संस्कृतियों में हंस की महत्ता और व्यापकता
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     02-07-2020 11:08 AM


  • विभिन्न सभ्यताओं की विशेषताओं की जानकारी प्रदान करते हैं उत्खनन में प्राप्त अवशेष
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     01-07-2020 11:55 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.