बेल का अति उपयोगी पेड़

मेरठ

 11-06-2018 01:33 PM
पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

बेल का पेड़ हिन्दू धर्म में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। शिव की पूजा करते समय बेल का पत्ता (बेल पत्र) भगवान् को चढ़ाया जाता है। बेल के गुण धार्मिक ही नहीं बल्कि आयुर्वेदिक भी हैं। जैसा कि हम देखते हैं कि भारत में प्रत्येक आयुर्वेदिक फायदों से जुड़े पेड़ों का अध्यात्म से एक महत्वपूर्ण जोड़ होता है जैसे कि नीम शीतला माता से, बरगद विष्णु को आदि, इसी प्रकार से बेल अपने गुणों के कारण शिव से जुड़ा हुआ है। बेल का पत्ता ही नहीं बल्कि इसकी छाल, फल, आदि भी अत्यंत महत्वपूर्ण औषधियाँ हैं। इसके फल में थोड़ी मात्रा में पारा पाया जाता है जो इस बात की ओर संकेत करता है कि इसका प्रयोग एक निश्चित अवधि में कर लिया जाना चाहिए अन्यथा यह मनुष्य के लिए काफी हानिकारक भी साबित हो सकता है।

गर्मियों में बेल का फल किसी आशीर्वाद से कम नहीं है। बेल का वैज्ञानिक नाम एगल मार्मेलोस (Aegle Marmelos) है तथा इस पेड़ का मूल भारत है। बेल का प्रयोग भारतीय उपमहाद्वीप में विगत 5 हजार सालों से किया जाता आ रहा है, तथा इसके बारे में अनेकों धर्म ग्रन्थ हमें जानकारी मुहैया कराते हैं। बेल की पत्तियों, छाल, जड़ों, फलों, और बीजों का उपयोग भारतीय पारंपरिक प्रणाली के आयुर्वेद में असंख्य बीमारियों के इलाज के लिए गावों व शहरों में प्रयोग किया जाता था। वर्तमान काल में भी गावों में इसका सेवन बड़े पैमाने पर किया जाता है। मेरठ में हम बेल के पेड़ को अक्सर देखते हैं तथा यहाँ पर शहर में विभिन्न ठेलों पर इसके रस को बेचने वाले भी हमें दिखाई दे जाते हैं। बेल फल आहार के लिए भी प्रयोग किये जाते हैं। इनके फल के गूदे का उपयोग मुरब्बा, हलवा, रस आदि बनाने के लिए किया जाता है।

यदि हम स्वास्थ से सम्बंधित मामले देखें तो इसका प्रयोग दस्त, अल्सर, श्वशन आदि जैसी गंभीर समस्याओं में बेल के फल का प्रयोग किया जाता है। बेल का फल पकने के लिए पूरे 11 महीने का समय लेता है। बेल के अन्दर यह भी गुण है कि यह टी.बी. जैसी बीमारी में भी प्रयोग में लाया जाता है। बेल का फल कफ और वात दोष को भी ख़त्म करता है। बेल का जड़ पाचन के लिए प्रयोग में लाया जाता है, तथा इसका पत्ता दर्द आदि जैसी समस्याओं में प्रयोग में लाया जाता है। इस प्रकार से हम देख सकते हैं कि बेल वास्तविकता में मानव जीवन में कितना महत्वपूर्ण किरदार का निर्वहन करता है।

1.http://www.gyanunlimited.com/health/10-wonder-benefits-and-uses-of-bael-aegle-marmelos/11321/
2.https://www.sciencedirect.com/science/article/pii/S0963996911000950



RECENT POST

  • रंग जमाती होली आयी
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     21-03-2019 01:35 PM


  • होली से संबंधित पौराणिक कथाएँ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     20-03-2019 12:53 PM


  • बौद्धों धर्म के लोगों को चमड़े के जूते पहनने से प्रतिबंधित क्यों किया गया?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-03-2019 07:04 AM


  • महाभारत से संबंधित एक ऐतिहासिक शहर कर्णवास
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-03-2019 07:40 AM


  • फूल कैसे खिलते हैं?
    बागवानी के पौधे (बागान)

     17-03-2019 09:00 AM


  • भारत में तांबे के भंडार और खनन
    खदान

     16-03-2019 09:00 AM


  • क्या है पौधो के डीएनए की संरचना?
    डीएनए

     15-03-2019 09:00 AM


  • अकबर के शासन काल में मेरठ में थी तांबे के सिक्कों की टकसाल
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     14-03-2019 09:00 AM


  • पक्षियों की तरह तितलियाँ भी करती है प्रवासन
    तितलियाँ व कीड़े

     13-03-2019 09:00 AM


  • प्राचीन काल में लोग समय कैसे देखते थे
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     12-03-2019 09:00 AM