पर्यावरण हितैषी बिजली वाले शमशान

मेरठ

 07-06-2018 01:31 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

हिन्दू धर्म में नदियों और घाटों का विशेष महत्त्व है। हिन्दू मान्यतानुसार हम पूर्णिमा, दशहरा, अमावास आदि पर गंगा स्नान गंगा घाट पर ही करते हैं। मनुष्य के मरने के बाद भी उसके मृतक शरीर को घाट पर ही ले जाया जाता है। इसे ‘शमशान घाट’ कहा जाता है, जहाँ मनुष्य के मरने के बाद, उसके मृतक शरीर को जलाया जाता है और उसकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की जाती है। जलने के बाद उसके शरीर की राख को गंगा में बहा दिया जाता है।

‘शमशाना’ (शमशान) शब्द की उत्पत्ति संस्कृत भाषा से हुई है। ‘अश्म’ शब्द ‘आसमान’ और ‘शाना’ शब्द ‘शयन’ (विश्राम) को दर्शाता है। सिख, जैन और बौद्ध धर्म को मानने वाले लोग मृतकों के अंतिम संस्कार के लिए ‘शमशाना’ शब्द का ही प्रयोग करते हैं।

लेकिन इस परंपरा के चलते हमें कई समस्याओं का सामना भी करना पड़ रहा है। कम आयु में मरने वाले बच्चों को हिन्दू मान्यतानुसार जलाया नहीं जाता है, बल्कि उन्हें नदी में बहा दिया जाता है। इसी प्रकार बहुत से जानवरों के मरने पर उन्हें भी पानी में छोड़ दिया जाता है। जिसके चलते जल-प्रदूषण तेजी से फ़ैल रहा है और ऐसे जल का सेवन करने से बीमारियाँ तीव्र गति से गाँव व शहरों में फ़ैल रही हैं।

इस समस्या को ध्यान में रखते हुए सरकार ने ‘इलेक्ट्रिक क्रीमेटोरियम’ (Electric Crematorium) अर्थात बिजली वाले शमशान की शुरुआत की है। इनमें शव को लकड़ियों के सहारे जलाने के बजाय बिजली द्वारा मृत शरीर को जलाया जाता है। गंगा नदी को साफ़ रखने के लिए यह अभियान जनवरी 1989 में ‘गंगा कार्य योजना’ (Ganga Action Plan) के तहत चलाया गया था, जिसके द्वारा हम अपने पर्यावरण को स्वच्छ रख सकें। इसके फायदे अनेक हैं – पेड़ों का बचाव (क्योंकि लकड़ी का उपयोग नहीं करना पड़ता), आर्थिक बचत, जल प्रदूषण में कमी, आदि। अतः समय आ चुका है जब हम अपने सालों पुराने अन्धविश्वास छोड़, आने वाले वर्षों तथा पीढ़ियों के बारे में सोच कर सही कदम उठायें।

1. https://en.wikipedia.org/wiki/Shmashana
2. https://www.mapsofindia.com/my-india/society/electric-cremation-vs-the-traditional-funeral-pyre



RECENT POST

  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM


  • प्राचीन समय में होता था नक्षत्रों के माध्यम से खगोलीय घटनाओं का पूर्वानुमान
    जलवायु व ऋतु

     03-12-2018 05:15 PM


  • अफ्रीका की जंगली भैंसे
    स्तनधारी

     02-12-2018 11:50 AM