साधारण तापमान में भी हवा चलने पर क्यों लगती है ठंड

मेरठ

 02-06-2018 12:47 PM
स्पर्शः रचना व कपड़े

सभी जानते हैं कि बर्फीली ठण्ड सहन करना आसान है, यदि हवा नहीं बह रही हो। पर सभी इसका सही कारण नहीं समझते। तेज़ हवा में अधिक ठण्ड की अनुभूति सिर्फ सजीव प्राणियों को ही होती है : थर्मामीटर का पारा हवा लगने से नीचे नहीं उतरता। बर्फीली ठण्ड में हवा बहने पर तेजी से ठंडक लगने का कारण है कि शरीर से (विशेष कर उसके खुले भागों से) कहीं अधिक गर्मी निकल कर वातावरण में लीन हो जाती है, जबकि शांत मौसम में, शरीर द्वारा गर्म की गयी हवा नयी ठंडी हवा से इतनी जल्दी विस्थापित नहीं हो पाती। हवा जितनी ही तेज़ होगी, प्रति मिनट उसकी उतनी ही अधिक मात्रा शरीर की सतह को स्पर्श करती हुई निकलेगी और इसके फलस्वरूप शरीर से प्रति मिनट ताप-हानि की मात्रा भी उतनी ही अधिक होगी। तेज़ ठण्ड की अनुभूति के लिए यही पर्याप्त है।

लेकिन एक कारण और है। हमारी चमड़ी से वाष्प के रूप में हमेशा आर्द्रता निकलती रहती है। वाष्पीकरण के लिए ताप चाहिए; वह हमारे शरीर से मिलता है और हमारे शरीर की निकटवर्ती हवा की परत से (यदि हवा स्थिर है, तो) वाष्पीकरण बहुत मंद होता है, क्योंकि चमड़ी के पास की हवा वाष्प से जल्द ही संतृप्त हो जाती है (आर्द्रता से संतृप्त हवा में वाष्पीकरण की क्रिया तीव्र नहीं होती)। पर यदि हवा प्रवाहमान है और चमड़ी को स्पर्श करती हुई नयी-नयी हवा गुजरती रहती है, तो वाष्पीकरण की गति अपनी प्रचंडता बनाये रखती है; वह मंद नहीं होती। और इसके लिए अधिक ताप खर्च होता है, जो हमारे शरीर से ही खींचा जाता है। इसलिए हम ठंडक का एहसास करते हैं।

अतः हम आसान शब्दों में यह कह सकते हैं कि हमें कितनी ठण्ड लग रही है, यह सिर्फ तापमान पर ही नहीं निर्भर करता बल्कि हवा के वेग पर भी निर्भर करता है। दो अलग स्थान जिनका तापमान एक समान हो परन्तु हवा की गति अलग-अलग, ऐसे स्थानों पर एक ही मनुष्य को ठण्ड का अलग अलग एहसास होगा।

1. मनोरंजक भौतिकी, या. इ. पेरेलमान



RECENT POST

  • लिडियन नाधास्वरम (Lydian Nadhaswaram) के हुनर को सलाम
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     21-04-2019 07:00 AM


  • अपरिचित है मेरठ की भोला बियर की कहानी
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     20-04-2019 09:00 AM


  • क्यों मनाते है ‘गुड फ्राइडे’ (Good Friday)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:41 AM


  • तीन लोक का वास्तविक अर्थ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 12:24 PM


  • यिप्रेस (Ypres) के युद्ध में मेरठ सैन्य दल ने भी किया था सहयोग
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     17-04-2019 12:50 PM


  • मेरठ का खूबसूरत विवरण जॉन मरे के पुस्तक में
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-04-2019 04:10 PM


  • पतन की ओर बढ़ता सर्कस
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:37 PM


  • 'अतुल्य भारत' की एक मनोरम झलक
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     14-04-2019 07:20 AM


  • रामायण और रामचरितमानस का तुलनात्मक विवरण
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:30 AM


  • शहीद-ए-आज़म उद्धम सिंह का बदला
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-04-2019 07:00 AM