Machine Translator

साधारण तापमान में भी हवा चलने पर क्यों लगती है ठंड

मेरठ

 02-06-2018 12:47 PM
स्पर्शः रचना व कपड़े

सभी जानते हैं कि बर्फीली ठण्ड सहन करना आसान है, यदि हवा नहीं बह रही हो। पर सभी इसका सही कारण नहीं समझते। तेज़ हवा में अधिक ठण्ड की अनुभूति सिर्फ सजीव प्राणियों को ही होती है : थर्मामीटर का पारा हवा लगने से नीचे नहीं उतरता। बर्फीली ठण्ड में हवा बहने पर तेजी से ठंडक लगने का कारण है कि शरीर से (विशेष कर उसके खुले भागों से) कहीं अधिक गर्मी निकल कर वातावरण में लीन हो जाती है, जबकि शांत मौसम में, शरीर द्वारा गर्म की गयी हवा नयी ठंडी हवा से इतनी जल्दी विस्थापित नहीं हो पाती। हवा जितनी ही तेज़ होगी, प्रति मिनट उसकी उतनी ही अधिक मात्रा शरीर की सतह को स्पर्श करती हुई निकलेगी और इसके फलस्वरूप शरीर से प्रति मिनट ताप-हानि की मात्रा भी उतनी ही अधिक होगी। तेज़ ठण्ड की अनुभूति के लिए यही पर्याप्त है।

लेकिन एक कारण और है। हमारी चमड़ी से वाष्प के रूप में हमेशा आर्द्रता निकलती रहती है। वाष्पीकरण के लिए ताप चाहिए; वह हमारे शरीर से मिलता है और हमारे शरीर की निकटवर्ती हवा की परत से (यदि हवा स्थिर है, तो) वाष्पीकरण बहुत मंद होता है, क्योंकि चमड़ी के पास की हवा वाष्प से जल्द ही संतृप्त हो जाती है (आर्द्रता से संतृप्त हवा में वाष्पीकरण की क्रिया तीव्र नहीं होती)। पर यदि हवा प्रवाहमान है और चमड़ी को स्पर्श करती हुई नयी-नयी हवा गुजरती रहती है, तो वाष्पीकरण की गति अपनी प्रचंडता बनाये रखती है; वह मंद नहीं होती। और इसके लिए अधिक ताप खर्च होता है, जो हमारे शरीर से ही खींचा जाता है। इसलिए हम ठंडक का एहसास करते हैं।

अतः हम आसान शब्दों में यह कह सकते हैं कि हमें कितनी ठण्ड लग रही है, यह सिर्फ तापमान पर ही नहीं निर्भर करता बल्कि हवा के वेग पर भी निर्भर करता है। दो अलग स्थान जिनका तापमान एक समान हो परन्तु हवा की गति अलग-अलग, ऐसे स्थानों पर एक ही मनुष्य को ठण्ड का अलग अलग एहसास होगा।

1. मनोरंजक भौतिकी, या. इ. पेरेलमान



RECENT POST

  • निरपेक्ष गरीबी दर और उसकी वैश्विक स्थिति
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     20-10-2019 10:00 AM


  • भारत व विश्व की बेहतरीन मवेशी नस्लें
    स्तनधारी

     19-10-2019 11:56 AM


  • प्लास्टिक प्रदूषण ले रहा है समुद्री जीवन की जान
    समुद्र

     18-10-2019 11:04 AM


  • मेरठ का औघड़नाथ मंदिर और 1857 की क्रांति
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     17-10-2019 10:56 AM


  • स्वस्थ आहार व उन्नत कृषि को प्रोत्साहित करता विश्व खाद्य दिवस
    साग-सब्जियाँ

     16-10-2019 12:38 PM


  • कैसे कर्नाटक जाकर प्रसिद्ध हुआ उत्तर प्रदेश का ये पेड़ा?
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     15-10-2019 12:37 PM


  • विश्व की सबसे प्राचीनतम लिपियों में से एक है सिंधु लिपि
    ध्वनि 2- भाषायें

     14-10-2019 02:36 PM


  • शरद पूर्णिमा का धार्मिक और आयुर्वेदिक महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-10-2019 10:00 AM


  • अंग्रेज़ों के समय से चली आ रही भारत की यह निजी रेल
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     12-10-2019 10:00 AM


  • राष्ट्रीय वृक्ष के रूप में सुशोभित बरगद का पेड़
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     11-10-2019 10:56 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.