गीता का सारांश- 8 भव्य बिंदु

मेरठ

 16-05-2018 04:25 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

भगवद गीता में कुल 18 अध्याय हैं जिनका अपना एक अलग महत्व है। सम्पूर्ण अध्यायों में विभिन्न योगों, संस्कारों, कर्तव्यों और दर्शन का महत्व बताया गया है। भगवद गीता वेदांत के सत्य का एक अद्भुत जोड़ है, यह आकार-निराकार, सत्य-असत्य, अच्छाई-बुराई, अंधकार-प्रकाश एवं अनंत के बारे में बताता है। यह वेदान्तिक शिक्षण ‘तत त्वम असी’ पर आधारित है । गीता के पहले 6 अध्याय 'त्वम' के विषय में है – ‘तुम ही छात्र हो जिसे ज्ञान ग्रहण करना है’ जहाँ अर्जुन एक छात्र का किरदार निभाते हैं। गीता के अगले 6 अध्याय 'तत' के विषय में है – ‘दिव्यता और सृजन की अनंत महिमा और पूर्णता’। गीता के आखिरी 6 अध्याय 'असी' के विषय में है अर्थात साधक के विषय में आखिरी 6 अध्याय बताते हैं कि साधक अपने आप में पूर्ण है और अर्जुन कृष्ण से कुछ भिन्न नहीं हैं। अर्जुन को इस बात का पता अंत में चलता है जबकि कृष्ण शुरुआत से इस सत्य से ज्ञात हैं। भगवद गीता के 18 अध्यायों से मिली सीख को हम निम्नलिखित रूप से प्रस्तुत कर सकते हैं-
- क्यों व्यर्थ चिन्ता करते हो? किससे व्यर्थ डरते हो? कौन तुम्हें मार सकता है? आत्मा न पैदा होती है, न मरती है।
- जो कुछ हुआ वह अच्छा हुआ, जो कुछ हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है। जो कुछ होगा वह भी अच्छा ही होगा। तुम भूत का पश्चाताप न करो। भविष्य की चिन्ता न करते हुए कर्म करो। वर्तमान चल रहा है।
- तुम्हारा क्या गया जो रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो नाश हो गया? न तुम कुछ लेकर आए थे, जो कुछ लिया यहीं से लिया। जो कुछ दिया यहीं दिया। जो लिया इसी (भगवान) से लिया। जो दिया, इसी को दिया।
- खाली हाथ आए थे, खाली हाथ जाओगे। जो आज तुम्हारा है, कल किसी और का था, परसों किसी और का होगा। तुम इसे अपना समझ कर मग्न हो रहे हो। बस यही प्रसन्नता दुखों का कारण है।
- परिवर्तन संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो वही तो जीवन है। एक क्षण में तुम करोड़ों के स्वामी बन जाते हो, दूसरे ही क्षण तुम निर्धन हो जाते हो। तेरा-मेरा, छोटा-बड़ा, अपना-पराया मन से हटा दो, विचार से हटा दो, फिर सब तुम्हारा है, तुम सबके हो।
- न यह शरीर तुम्हारा है, न तुम शरीर के हो। यह अग्नि, जल, वायु, पृथ्वी और आकाश से बना है और इसी में मिल जाएगा। परन्तु आत्मा स्थिर है, फिर तुम क्या हो?
- तुम अपने आप को भगवान को अर्पित करो। यही सबसे उत्तम सहारा है। जो इसके सहारे को जानता है, वह भय, चिन्ता व शोक से सर्वदा मुक्त्त है।
- जो कुछ भी तुम करते हो, उसे भगवान को अर्पित करते चलो। इसी से तुम्हें सदा जीवन-मुक्त्त का आनन्द अनुभव होगा।
इस प्रकार से गीता के सम्पूर्ण 18 अध्यायों को प्रदर्शित किया गया है।

1. http://www.arthurkilmurray.com/resources-spirituality/bhagavad-gita/summary-of-the-18-chapters/
2. https://www.eaglespace.com/spirit/geetasaar.php
3. http://prabhupadabooks.com/pdf/Bhagavad_gita-As_It_Is-Original_authorized_Macmillan_edition.pdf


RECENT POST

  • गुरुवायुर (Guruvayur) शहर में एक हाथी स्पा (Spa)
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     27-09-2020 06:46 AM


  • गेम थ्योरी या खेल सिद्धांत क्या है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     26-09-2020 04:37 AM


  • बियर की अनसुनी कहानियां
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     25-09-2020 03:25 AM


  • मेरठ में 1899 की चर्चिल तस्वीर
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     24-09-2020 03:51 AM


  • पश्तून (पठान) - मुस्लिम धर्म की एक प्रमुख जनजाति का इतिहास
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     23-09-2020 03:27 AM


  • मेरठ का ऐतिहासिक स्थल सूरज कुंड
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-09-2020 11:14 AM


  • आभूषणों को सुंदर रूप प्रदान करता है कांच
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     21-09-2020 04:08 AM


  • अजंता और एलोरा
    खदान

     20-09-2020 09:26 AM


  • क्यों होते हैं आनुवंशिक रोग?
    डीएनए

     18-09-2020 07:48 PM


  • बैटरी - वर्षों से ऊर्जा का एक महत्वपूर्ण स्रोत
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-09-2020 04:49 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id