पंचतंत्र से मिली जीवन की सीख

मेरठ

 09-05-2018 01:00 PM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

पंचतंत्र मात्र कहानियों का एक समूह नहीं है परन्तु यह कहानियों से अधिक एक सीख और शिक्षा है। पंचतंत्र की कहानियां विष्णु शर्मा द्वारा तीसरी शताब्दी में लिखी गयी थीं। पंचतंत्र में जानवरों व पक्षियों को मुख्य किरदारों में बताया गया है तथा किसी भी मानव को इन कहानियों में प्रस्तुत नहीं किया गया है। ये कहानियां एक शिक्षा को अपने में समाहित कर के रखती हैं। पंचतंत्र को इस प्रकार से लिखा गया है जिसे छोटे से छोटे बच्चे और बड़े सभी आसानी से समझ सकें। इन कहानियों में राजाओं व प्रजा के गुणों को भी प्रदर्शित किया गया है।

पंचतंत्र भारत की एकमात्र ऐसी कहानियों की श्रृंखला है जिसे पूरे विश्व भर में कई भाषाओँ में विभाजित किया गया है। पंचतंत्र कहानियां पूरे पचास से अधिक भाषाओं में मौजूद, दो सौ से अधिक विभिन्न संस्करणों में अनुवादित की गयी हैं, और इनमें से तीन-चौथाई भाषाएं भारतीय नहीं हैं। ग्यारहवीं शताब्दी के आरंभ में यह काम यूरोप पहुंच गया, और 1600 से पहले यह यूनानी, लैटिन, स्पेनिश, इतालवी, जर्मन, अंग्रेजी, पुरानी स्लाविक, चेक, और शायद अन्य स्लाविक भाषाओं में अनुवादित किया गया था। इसकी सीमा जावा से आइसलैंड तक बढ़ी है। इस कहानी पर बार-बार काम किया गया है। इसको विस्तारित, सारणित, कविता में बदल दिया गया है। तथा गद्य में यह दोबारा लिखी गयी हैं। मध्ययुगीन और आधुनिक स्थानीय भाषाओं में पंचतंत्र का अनुवाद किया गया है, और संस्कृत में पुन: इसका अनुवाद किया गया है। लोक कथाओं के आधुनिक छात्रों द्वारा एकत्रित मौखिक कहानियों के संग्रह में यह कहानी दिखाई देती है।

मेरठ में हर बच्चा आज पंचतंत्र की कुछ कहानियों को जानता है। लेकिन कुछ लोगों की पुस्तक में 5 तंत्रों की संरचना और कैसे कहानियों के प्रारूप को वास्तव में मौखिक कहानी कहने के लिए बनाया गया है, के बारे में अधिक जानकारी नहीं है। राजकुमारों में नैतिकता को आत्मसात करने के लिए उन्हें धार्मिक राजा बनने की प्रेरणा देने के लिए इन कहानियों को बनाया गया था। आइए आज पञ्चतंत्र की संरचना देखें-

पंचतंत्र मुख्य रूप से पांच किताबों का संग्रह है, इन किताबों के नाम निम्नलिखित हैं:
* मित्र-भेद: दोस्तों का अलगाव (शेर और बैल की कहानी)
* मित्र-लाभ या मित्र-संप्राप्ति: दोस्तों का लाभ (कबूतर, कौआ, चूहा, कछुआ और हिरण की कहानी)
* काकोलुकियम: युद्ध और शांति (कौवे और उल्लू की कहानी)
* लब्धप्रणाशम्: लाभ का नुकसान (बंदर और मगरमच्छ की कहानी)
* अपरीक्षितकारकम्: जल्दबाज़ी का काम (ब्राह्मण और नेवले की कहानी)

उपरोक्त लिखित कहानियों में विभिन्न प्रकार की शिक्षा को प्रस्तुत किया गया है जिससे व्यक्ति को बेहतर शिक्षा के साथ ही साथ बेहतर जीवन जीने की प्रेरणा मिलती है।

1. https://ipfs.io/ipfs/QmXoypizjW3WknFiJnKLwHCnL72vedxjQkDDP1mXWo6uco/wiki/Panchatantra.html 2.  https://books.google.co.in/books?id=Ucz06oE4YyEC&printsec=frontcover&dq=panchtantra&hl=en&sa=X&ved=0ahUKEwijxbXYouXaAhWBPY8KHYI6CZMQ6AEIMTAB#v=onepage&q&f=false



RECENT POST

  • लिडियन नाधास्वरम (Lydian Nadhaswaram) के हुनर को सलाम
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     21-04-2019 07:00 AM


  • अपरिचित है मेरठ की भोला बियर की कहानी
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     20-04-2019 09:00 AM


  • क्यों मनाते है ‘गुड फ्राइडे’ (Good Friday)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:41 AM


  • तीन लोक का वास्तविक अर्थ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 12:24 PM


  • यिप्रेस (Ypres) के युद्ध में मेरठ सैन्य दल ने भी किया था सहयोग
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     17-04-2019 12:50 PM


  • मेरठ का खूबसूरत विवरण जॉन मरे के पुस्तक में
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-04-2019 04:10 PM


  • पतन की ओर बढ़ता सर्कस
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:37 PM


  • 'अतुल्य भारत' की एक मनोरम झलक
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     14-04-2019 07:20 AM


  • रामायण और रामचरितमानस का तुलनात्मक विवरण
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:30 AM


  • शहीद-ए-आज़म उद्धम सिंह का बदला
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-04-2019 07:00 AM