Machine Translator

मेरठ में रोजगार की स्थिति

मेरठ

 06-06-2017 12:00 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति
रोजगार वर्तमान समाज की एक बहुत बड़ी समस्या है| ना सिर्फ भारत बल्कि यह पूरे विश्व की चिंता का कारण बन चुका है| जनसंख्या के लगातार बढ़ोतरी के कारण आज कई समस्यायें उजागर होने लगी हैं जैसे की आवास, भोजन, रोजगार इत्यादि| अगर उत्तर प्रदेश सरकार कि रोजगार रिपोर्ट को आधार बनाया जाये तो जो आंकड़े मेरठ के संदर्भ मे सामने आते हैं वह इस प्रकार है- मेरठ मे करीब 10 लाख लोग किसी ना किसी प्रकार का रोजगार करते हैं| यहाँ पर कुल आबादी मे 32 प्रतिशत लोग ग्रामीण श्रमिक है और यहाँ के प्रमुख रोजगार मुहैया कराने वाले कारकों मे कृषी, खेल-कूद का सामान, कैंची, वादन यंत्र, कृत्रिम आभूषण आदि हैं।

RECENT POST

  • पर्वतारोहण और शिलारोहण में बढ़ रही है भारतीयों की रुचि
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-02-2020 11:45 AM


  • क्यों होती है, पश्चिमी विछोभ वाली बारिश ?
    जलवायु व ऋतु

     26-02-2020 12:45 PM


  • रेलवे की बिजली खपत को कम करने में सहायक है हेड ऑन जनरेशन तकनीक
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     25-02-2020 03:30 PM


  • गौरवशाली इतिहास वाला मेरठ और एक कड़वे सच का सामना
    स्तनधारी

     24-02-2020 03:00 PM


  • ज़िन्दगी की जद्दोजहद को दिखाती एक टिटहरी की कहानी - पाइपर (Piper)
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     23-02-2020 03:30 PM


  • एक लचीला और घातक अस्त्र: उरुमी
    हथियार व खिलौने

     22-02-2020 01:30 PM


  • सात समंदर पार भी फैली है बाबा औघड़नाथ की महिमा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     21-02-2020 03:33 AM


  • ब्रिटिश संग्रहालय (British Museum) में मौजूद है अशोक स्तंभ का एक टुकड़ा
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     20-02-2020 12:40 PM


  • कोरोना वायरस से संबंधित भ्रमक जानकारियों से बचें
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     19-02-2020 11:00 AM


  • अप्रतिम वास्तुकला का नमूना है मेरठ का मुस्तफा महल
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     18-02-2020 01:30 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.