नमाज़- क्या है इस खूबसूरत शब्द का अर्थ?

मेरठ

 16-04-2018 01:56 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

नमाज़ मात्र एक शब्द ही नहीं है बल्कि इसका एक गहरा अर्थ है। नमाज़ इस्लाम में इबादत करने को कहते हैं। नमाज़ एक फारसी शब्द है, जो उर्दू में अरबी शब्द ‘सलाह’ या सलात का पर्याय है। कुरान शरीफ में सलात शब्द बार-बार आया है और प्रत्येक मुसलमान स्त्री और पुरुष को नमाज़ पढ़ने का आदेश ताकीद के साथ दिया गया है। इस्लाम के आरंभकाल से ही नमाज़ की प्रथा और उसे पढ़ने का आदेश दिया गया है।

सलाह का मुख्य उद्देश्य एक व्यक्ति के संचार और ईश्वर की स्मृति के रूप में कार्य करना है। "अल-फतिहा" कुरान का पहला अध्याय पढ़ कर ईश्वर के मार्गदर्शन की मांग करना है।

हनबली स्कूल के विचार के तहत, एक व्यक्ति जो एक दिन में पांच बार प्रार्थना नहीं करता एक अविश्वासी है। विचारधारा के अन्य तीन सुन्नी विद्यालयों का कहना है कि जो व्यक्ति दिन में पांच बार प्रार्थना नहीं करता वह एक अपवित्र पापधारी है। इसके अलावा, दैनिक पूजा मुसलमानों को भगवान के आशीर्वाद के लिए शुक्रिया अदा करने की याद दिलाती है और ईश्वर के प्रति समर्पण की भावना को दर्शाती है। मुसलमान मानते हैं कि परमेश्वर के सभी भविष्यद्वक्ताओं ने दैनिक प्रार्थना की थी और वे परमेश्वर के निगहबान में थे। मुसलमान यह भी मानते हैं कि परमेश्वर के भविष्यद्वक्ताओं का मुख्य कर्तव्य मानवता के आगे परमेश्वर की नम्रता को प्रदर्शित करना है।

यदि दो प्रमुख शब्दों, जो कि दो धार्मिक समुदाय से जुड़े हैं, को देखा जाए तो- शब्द "नमाज़" और शब्द "नमस्ते" भाषायी रूप से बारीकी से संबंधित हैं। "नमाज़" एक फारसी मूल शब्द है और इसे मुख्य रूप से इंडो-यूरोपीय भाषा के बोलने वालों द्वारा बोला जाता है जैसे कि ईरान, अफगानिस्तान, पाकिस्तान, भारत, बांग्लादेश, श्रीलंका और अन्य एशियाई देश। दोनों शब्दों में "नामा" का अर्थ है "पूर्ण विनम्रता" या "मैं नहीं"। "नमाज़" के मामले में, यह "ईश्वर के प्रति परम नम्रता" यानी अरबी शब्द "सलाह" के बराबर है। इन दोनों शब्दों को मिलाकर यह देखा जा सकता है कि नमाज़ और नमस्ते बहुत हद तक एक ही आधार पर कार्यरत हैं और इनका उद्देश्य एक ही है।

1. इस्लाम: हाऊ टू डू सलात/सलाह/नमाज़ इस्लामिक प्रेयर द मुस्लिम प्रेयर फ्रॉम कुरान एंड सुन्नाह, फैसल फहीम
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Salah
3. https://en.wikipedia.org/wiki/Al-Fatiha



RECENT POST

  • कम्बोह वंश के गाथा को दर्शाता मेरठ का कम्बोह दरवाज़ा
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     22-04-2019 09:00 AM


  • लिडियन नाधास्वरम (Lydian Nadhaswaram) के हुनर को सलाम
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     21-04-2019 07:00 AM


  • अपरिचित है मेरठ की भोला बियर की कहानी
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     20-04-2019 09:00 AM


  • क्यों मनाते है ‘गुड फ्राइडे’ (Good Friday)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:41 AM


  • तीन लोक का वास्तविक अर्थ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 12:24 PM


  • यिप्रेस (Ypres) के युद्ध में मेरठ सैन्य दल ने भी किया था सहयोग
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     17-04-2019 12:50 PM


  • मेरठ का खूबसूरत विवरण जॉन मरे के पुस्तक में
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-04-2019 04:10 PM


  • पतन की ओर बढ़ता सर्कस
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:37 PM


  • 'अतुल्य भारत' की एक मनोरम झलक
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     14-04-2019 07:20 AM


  • रामायण और रामचरितमानस का तुलनात्मक विवरण
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:30 AM