मेरठ की भूतिया कोठी

मेरठ

 07-04-2018 12:43 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

भूत प्रेत की कहानियाँ किसे नहीं अपनी तरफ आकर्षित करती हैं? भले ही भूत को देखने या उसके बारे में सुनने मात्र से ही व्यक्ति सहम जाए पर भूतों के बारे में जानने की इच्छा हमेशा सभी के मन में रहती है। भारत भर में विभिन्न स्थानों पर भूतिया स्थान पाए जाते हैं जिनसे जुड़ी कोई न कोई किंवदंती रहती है, जैसे कि भानगढ़ का किला, शनिवार वाड़ा, मुंबई की डिसूजा चाल आदि। भूतिया महल, कोठी, स्थान हमेशा बड़ी संख्या में देश के विभिन्न स्थानों से पर्यटकों को भी आकर्षित करते हैं।

अब मेरठ में क्या खास है प्रश्न उठाना जायज़ है। भारत के 10 सबसे ज्यादा भूतिया स्थानों में से एक मेरठ में भी स्थित है। इस स्थान को जी.पी. ब्लॉक के नाम से जाना जाता है। जी.पी. ब्लॉक तीन इमारतों से मिल कर बना हुआ है तथा देखने में इसकी वास्तुकला ब्रिटिश वास्तु कला से मेल खाती है। यदि इस इमारत के बनाने के दस्तावेजों के बारे में बात करें तो यह निराशाजनक ही साबित होता है क्यूंकि इससे सम्बंधित कोई दस्तावेज़ अभी तक मिल नहीं सके हैं। इस इमारत का निर्माण आर्मी या ब्रिटिश शासन से सम्बंधित किसी प्रतिष्ठित व्यक्ति द्वारा ही करवाया गया था। फिलहाल यहाँ से किसी भी प्रकार के जुर्म, हत्या या किसी अन्य प्रकार की भी घटना का जिक्र किसी भी अखबार या पुस्तक से नहीं प्राप्त होता जैसा कि विभिन्न अन्य भूतिया स्थानों से मिलता है। परन्तु यह स्थान भूतिया क्यूँ है यह एक संदेहास्पद बिंदु है। अन्य विवरणों के अनुसार यह कोठी सन 1930 से ही खाली पड़ी है जब इसमें रहने वाले इसे छोड़ गए थे। वर्तमान काल में सेना ने यहाँ की एक इमारत में 6 लोगों को इन पूरे इमारतों के रख रखाव के लिए रख रखा है।

इस स्थान से जुड़ी लोगों की बातों को ध्यान से यदि सुना जाए तो पता चलता है कि यहाँ पर एक लाल साड़ी पहने औरत और चार अन्य पुरुष रात में टहलते हैं, जिनको देखने का दावा यहाँ के स्थानीय लोग करते हैं। इन बातों में सच्चाई कितनी है इसका पता लगाना मुश्किल कार्य है परन्तु यह जरूर कहा जा सकता है कि सैकडो वर्ष से बंद होने के कारण और लोगों का आवागमन न होने के कारण यहाँ से जुड़ी कई कहानियाँ बनने लगीं।

1.https://timesofindia.indiatimes.com/city/meerut/Meeruts-haunted-building-blocks-fact-or-fiction/articleshow/40871338.cms



RECENT POST

  • मेरठवासियों के लिए सिर्फ 170 किमी दूर हिल स्टेशन
    पर्वत, चोटी व पठार

     18-12-2018 11:58 AM


  • लुप्त होने के मार्ग पर है बुनाई और क्रोशिया की कला
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     17-12-2018 01:59 PM


  • दुनिया का सबसे ठंडा निवास क्षेत्र, ओयम्याकोन
    जलवायु व ऋतु

     16-12-2018 10:00 AM


  • 1857 की क्रांति में मेरठ व बागपत के आम नागरिकों का योगदान
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-12-2018 02:10 PM


  • मिठास की रानी चीनी का इतिहास
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     14-12-2018 12:12 PM


  • वृक्षों का एक लघु स्वरूप 'बोन्साई '
    शारीरिक

     13-12-2018 04:00 PM


  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM