मेरठ में चीनी की मिलें

मेरठ

 30-03-2018 09:07 AM
स्वाद- खाद्य का इतिहास

मेरठ जिला गन्ने के उत्पाद के लिए जाना जाता है। मेरठ में प्रति हेक्टेयर 708 क्विंटल गन्ने का उत्पाद होता है जो कि प्रदेश के कई जिलों से कही अधिक है। किसी भी फसल की खेती उससे जुड़े उद्योग और व्यापार को भी बढ़ावा देती है, कृषि सम्बंधित उद्योगों के बढ़ने से खाद्य समस्या का हल तो निकलता ही है और साथ ही साथ रोजगार भी। मेरठ में गन्ने की खेती में बढ़ोतरी का पूरा श्रेय यहाँ उपस्थित चीनी मिलों और गुड़ बनाने के उद्योगों के कारण संभव हो पाया है।

एक समय ऐसा भी था जब मेरठ ही नहीं पूरे उत्तरप्रदेश में लोग गन्ने की खेती से विमुख हो चुके थे परन्तु कृषि विश्वविद्यालयों द्वारा किये गए प्रयोग और गन्ने से प्राप्त होने वाले लाभ ने किसानों को फिर से अपनी तरफ आकर्षित किया और आज उत्तर प्रदेश पूरे देश में सबसे ज्यादा गन्ना उत्पादित करने वाला राज्य बन चुका है। मेरठ में कुल 6 शक्कर की मिलें हैं जो यहाँ के गन्ने की खपत को बरक़रार रखती है जिस कारण यहाँ पर गन्ना उत्पाद प्रमुखता से किया जाता है। गन्ने की पैदावार यहाँ के किसानों आदि को बड़े पैमाने पर मुनाफा मुहैया करवा रही है जिससे यहाँ पर रोजगार में भी वृद्धि हो रही है। मेरठ में शक्कर के अलावा गुड़ का भी उत्पादन बड़े पैमाने पर किया जाता है तथा यहाँ पर उत्पादित गुड़ और शक्कर देश भर में भेजा जाता है। मेरठ में कुल 1,28,541 हेक्टयेर की जमीन पर गन्ना बोया जाता है जो कि यहाँ बोये जाने वाले अन्य फसलों से कहीं ज्यादा है।

1.सी डी. ए. प. मेरठ 2.http://shodhganga.inflibnet.ac.in/bitstream/10603/49462/9/09_chapter%203.pdf 3.http://www.researchjournal.co.in/upload/assignments/6_41-48.pdf


RECENT POST

  • मेरठवासियों के लिए सिर्फ 170 किमी दूर हिल स्टेशन
    पर्वत, चोटी व पठार

     18-12-2018 11:58 AM


  • लुप्त होने के मार्ग पर है बुनाई और क्रोशिया की कला
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     17-12-2018 01:59 PM


  • दुनिया का सबसे ठंडा निवास क्षेत्र, ओयम्याकोन
    जलवायु व ऋतु

     16-12-2018 10:00 AM


  • 1857 की क्रांति में मेरठ व बागपत के आम नागरिकों का योगदान
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-12-2018 02:10 PM


  • मिठास की रानी चीनी का इतिहास
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     14-12-2018 12:12 PM


  • वृक्षों का एक लघु स्वरूप 'बोन्साई '
    शारीरिक

     13-12-2018 04:00 PM


  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM