मेरठ मुगलों के काल में

मेरठ

 28-03-2018 11:16 AM
मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

मेरठ अपने स्वर्णिम इतिहास के कारण भारत के शिखर के जिलों में से एक है। यहाँ का इतिहास रामायण और महाभारत दोनों से जुड़ा हुआ है। यहाँ के इतिहास का ज्ञान यहाँ के विभिन्न टीलों की खुदाइयों से मिल जाता है। यह स्थान महकाव्य काल से लेकर वर्तमान काल तक अनवरत चले आ रहा है। महाजनपद काल में इस स्थान की महत्ता व अशोक के काल में इसका महत्व अद्वितीय था, यही कारण है कि अशोक ने यहाँ पर एक स्तम्भ का निर्माण करवाया था।

मध्यकाल आने के बाद भी मेरठ का महत्व बरकरार रहा, तराइन के युद्ध में पृथ्वीराज चौहान की हार के बाद 1192 ईस्वी में मुहम्मद गोरी के सेनापति कुतुबुद्दीन ऐबक ने मेरठ की ओर प्रस्थान किया था और मेरठ पर हमला कर के विजय प्राप्त की थी। मेरठ में विजय प्राप्त करने के बाद यहाँ पर क़ुतुबुद्दीन ने कई निर्माण कराये जिनको तबकाते नासिरी में पढ़ा व देखा जा सकता है।

1193 ईस्वी में मेरठ-दिल्ली मार्ग पर स्थित ईदगाह आज भी मेरठ की प्राचीन धरोहरों में से एक है। सल्तनत काल के समाप्ति के बाद मेरठ मुगलों के अधिकार क्षेत्र में आया, अकबर के शासन काल में पूरा मेरठ दिल्ली सूबे का हिस्सा था। गजेटियर ऑफ़ इंडिया में वर्णित तथ्य के अनुसार सरधना तहसील को छोड़ समस्त तहसीलें दिल्ली सूबे से ही सम्बंधित थीं। 1803 में मुगलों के पतन के काल में सुर्जीअर्जन गावं की संधि के अंतर्गत दौलत राव सिंधिया ने मेरठ जिले को ईस्ट इंडिया के सुपुर्द कर दिया था। मुगलों ने यहाँ पर कई निर्माण करवाए थे उन्ही में से एक शाह पीर का मकबरा आज भी मेरठ शहर में उपस्थित है।

1. फीचर लेखन, पी.के.आर्य



RECENT POST

  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM


  • प्राचीन समय में होता था नक्षत्रों के माध्यम से खगोलीय घटनाओं का पूर्वानुमान
    जलवायु व ऋतु

     03-12-2018 05:15 PM