मेरठ की फ़सलें और उनके प्रमुख रोग

मेरठ

 19-03-2018 11:33 AM
कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

गंगा यमुना दोआब के किनारे बसे मेरठ की जमीन उर्वर है तथा अनुकूल वातावरण के कारण विभिन्न फ़सलों, कृषि उपज एवं वनस्पति जगत का धनी है। यहाँ पर कुल 1,98,941 हेक्टेयर कृषि क्षेत्र है जिसमें सिंचन 99.60% उपलब्ध है। गन्ना, गेहूं, सरसों, धान, अरहर और चावल मेरठ की प्रमुख फसलों में से हैं। फ़सल के साथ-साथ फ़सल के रोग भी यहाँ दिखाई देते हैं जिस पर रोक लगाने के लिए सरकार द्वारा और उनके कृषि विज्ञान केंद्र आदि के द्वारा कई सावधानियां एवं उपचार प्रस्तुत किये जाते हैं। इनमें सबसे बड़ी समस्या यह है कि अनाज, फल-फूल में जो रोग होते हैं वे बहुतायता से जीवाणु और विषाणु की वजह से होते हैं जिनको पूरी तरह जड़ से उखाड़ना बहुत मुश्किल सा काम है क्यूंकि ये जीव सर्व-भुत होते हैं। पृथ्वी के प्रथम जीवों में से एक यह जीव वर्गीकरण के प्रोकर्योटा (Prokaryota) समूह में वर्गीकृत किये गए हैं। यह जीव प्राय: सर्वत्र पाए जाते हैं जैसे मिट्टी, जल, वायु यहाँ तक कि पौधों एवं मानव आदि पशुओं के शरिर में भी तथा कुछ जीव परोपकारी होते हैं लेकिन बहुतायता से वे रोगकारक होते हैं। इनके अलावा परजीवी फफूंद की वजह से भी फसलों में बहुत से रोग होते हैं। फफूंद युकार्योटीक (Eukaryotic) जीव समूह में शामिल हैं।

विस्फोट मतलब ब्लास्ट (Blast) और तुषार मतलब ब्लाइट (Blight) यहाँ के धान में देखे जाने वाले फ़सल-रोगों में प्रमुख हैं। वनस्पतियों में दिखनेवाला विषाक्त संक्रामक रोग मोज़ेक भी यहाँ की फसलों में देखा गया है। गन्ने में सफेद कोड़ना यहाँ के प्रमुख वनस्पति रोगों में गिने जाते हैं। सन 2017 में गन्ने की खेती में पोक्काह बोइंग नाम के फफूंद के प्रकार ने बहुत नुकसान करवाया। ब्लास्ट भी एक प्रकार के फफूंद की वजह से होता है लेकिन ब्लाइट के विभिन्न प्रकार हैं जो किस प्रकार के जीवाणु, विषाणु और फफूंद से हुए हैं उस हिसाब से उनका इलाज़ होता है।

1. सी डेप, मेरठ 2007
2. कॉमन डिजिजेस ऑफ़ सम एकोनोमिकली इम्पोर्टेन्ट क्रॉप्स
http://aciar.gov.au/files/node/8613/MN129%20part7.pdf
3. कृषि विज्ञानं केंद्र मेरठ
http://meerut.kvk4.in/district-profile.html
4. एग्रीकल्चर कन्टीजेन्सी प्लान फॉर डिस्ट्रिक्ट: मेरठ
http://www.crida.in/CP-2012/statewiseplans/Uttar%20Pradesh/UP24-Meerut-30.10.12.pdf
5. http://ppqs.gov.in/divisions/integrated-pest-management/major-incidence-pests
6.https://timesofindia.indiatimes.com/city/meerut/spray-buttermilk-to-save-cane-crop-from-pokka-boeng-disease/articleshow/60904318.cms



RECENT POST

  • वृक्षों का एक लघु स्वरूप 'बोन्साई '
    शारीरिक

     13-12-2018 04:00 PM


  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM