व्याध पतंग

मेरठ

 17-03-2018 11:07 AM
तितलियाँ व कीड़े

बचपन में खेलते वक़्त हम में से कितने ही लोगों ने हेलिकॉप्टर नाम के कीटक पर डोरी बांध कर खेला होगा! इस कीट का नाम है व्याध-पतंग। इसके आकार की वजह से इसे हेलिकॉप्टर कहा जाता है। व्याध-पतंग जंतु जगत के ओडोनाटा (Odonata) गण का कीट है तथा इसका उपगण अनिसोप्टेरा (Anisoptera) है क्यूंकि इसके आगे के पंख पिछले पंखों से बड़े होते हैं। व्याध-पतंग का शरीर दीर्घीभूत होता है जो आगे से मोटा और नीचे उतरते शंकु की तरह पतला हो जाता है। सभी कीटों की तरह इनके 6 पैर होते हैं लेकिन वो ठीक से चल नहीं पाते मगर इनकी उड़ने की शक्ति बड़ी लाजवाब होती है, वे बड़े फुर्तीले होते हैं, तथा उड़ते वक़्त इनके रंगों की वजह से सतरंगी होने का आभास दिलाते हैं, इसीलिए तो बचपन में इन्हें पकड़ना और भी मजेदार लगता था।

इनकी आंखे बड़ी बहुमुखी होती हैं। इनकी यौजिक आँखों में से हर आँख में 24,000 ओम्माटीडिया (Ommatidia) होती हैं। हर एक ओम्माटीडिया से आस-पास के क्षेत्र का अलग-अलग नजरिया व्याध-पतंग के दिमाग तक पहुंचता है। व्याध-पतंग के 32.5 करोड़ वर्ष पहले के जीवाश्म मिले हैं जिसका मतलब है कि यह बहुत प्राचीन जीव हैं। यह शिकारी मांसाहारी जीव पानी तथा आद्रभूमि के नज़दीक दिखते हैं। इनके प्रजनन का तरीका बड़ा ही अलग होता है, वे अप्रत्यक्ष, देरी से होता गर्भाधान के तरीके से प्रजनन की ओर बढ़ते हैं। समागम के वक़्त नर मादा को सर की तरफ से पकड़ते हैं और मादा अपने पेट को अपने बदन के नीचे मोड़ लेती है और नर के अतिरिक्त प्रजननांग से शुक्राणु जमा करती है, यह दूर से दिल के अकार जैसे दिखता है।

व्याध-पतंग ने वैज्ञानिक तकनीक में बहुत महत्वपूर्ण जगह पायी है। इसकी शारीरिक और व्यवहारिक विशेषताओं को देख कर वैज्ञानिकों ने एक प्रयोग किया है। उन्होंने एक व्याध-पतंग के डीएनए (DNA) गुणसूत्रों में बदलाव कर के साईबोर्ग यंत्र (Cyborg) जैसा बना दिया जिसमें उन्होंने उनकी नस के रज्जू के गुणसूत्रों को उनकी आँखों की तरह प्रकाश संवेदी बना दिया है। इन्हें वे परिचालन-तंत्रिकाकोशिका कहते हैं। उनका दावा है कि इसका इस्तेमाल वे गुप्तचरी आदि के लिए कर सकते हैं क्यूंकि आनुवंशिक रूप से उपांतरित व्याध-पतंग एक सूक्ष्म-हवाई वाहन जैसा है जो किसी भी मानव निर्मित मशीन से ज्यादा हल्का, अतिसूक्ष्म और गूढ़ है।

प्रस्तुत चित्र मेरठ में सामान्यतः मिलने वाले व्याध-पतंग का है।

1. http://dragonflysoc.org.uk/
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Dragonfly



RECENT POST

  • कम्बोह वंश के गाथा को दर्शाता मेरठ का कम्बोह दरवाज़ा
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     22-04-2019 09:00 AM


  • लिडियन नाधास्वरम (Lydian Nadhaswaram) के हुनर को सलाम
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     21-04-2019 07:00 AM


  • अपरिचित है मेरठ की भोला बियर की कहानी
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     20-04-2019 09:00 AM


  • क्यों मनाते है ‘गुड फ्राइडे’ (Good Friday)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:41 AM


  • तीन लोक का वास्तविक अर्थ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 12:24 PM


  • यिप्रेस (Ypres) के युद्ध में मेरठ सैन्य दल ने भी किया था सहयोग
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     17-04-2019 12:50 PM


  • मेरठ का खूबसूरत विवरण जॉन मरे के पुस्तक में
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-04-2019 04:10 PM


  • पतन की ओर बढ़ता सर्कस
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:37 PM


  • 'अतुल्य भारत' की एक मनोरम झलक
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     14-04-2019 07:20 AM


  • रामायण और रामचरितमानस का तुलनात्मक विवरण
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:30 AM