मेरठ की ओरिजिनल मिनी मेट्रो!

मेरठ

 14-03-2018 12:32 PM
य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

मेरठ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का महतवपूर्ण शहर है। नगर निगम के अधीन यह शहर उत्तर प्रदेश के विकास और शिक्षा क्षेत्र में सबसे तेज़ी से आगे बढ़ने वाला शहर है साथ ही ऐतिहासिक दृष्टि से भी मेरठ काफी महत्वपूर्ण है। सन 2011 की जनगणना के अनुसार मेरठ शहर की कुल जनसंख्या तक़रीबन 1,305,429 है। क्रीडा सामग्री, सर्राफा, वाद्ययन्त्र आदि का निर्माण यह नौकरी के सहित यहाँ के मुख्य व्यवसाय हैं। आवागमन के लिए यहाँ पर वायुमार्ग, रेल मार्ग, सड़क मार्ग आदि उपलब्ध हैं तथा शहर के अन्दर आवागमन के लिए रिक्शा, बस, सायकल रिक्शा आदि उपलब्ध हैं। इन्ही में से एक है यहाँ की ‘ओरिजिनल मिनी मेट्रो’ (Original Mini Metro) और नहीं यह कोई पटरी पर चलने वाली चीज़ नहीं बल्कि रिक्शा का एक प्रकार है!

मिनी मेट्रो मेरठ में यात्रा सुकर करने वाली एक जीवनदायी सुविधा जैसी है जो प्रदूषण भी नहीं करती। मेरठ के रास्तों में यह आपको लोगों को एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाती दिखाई देगी वो भी बड़ी कम क़ीमत पर। मेरठ में मेट्रो-रिक्शा को इ-रिक्शा भी कहा जाता है और इसे चलाना एक प्रमुख रोज़गार का साधन है। मेट्रो-रिक्शा प्रदूषण नहीं करती तथा किफ़ायती भी है क्यूंकि यह विद्युत धारा पर चलती है जिसमें एक विद्युत आवेग पर ये तक़रीबन 100 से 140 किमी चल सकती है। साथ ही यह 1 चलाने वाले के साथ 4 लोगों को और थोड़े सामान को ढो सकती है, मतलब कुछ 380 किलो का वजन ये आराम से उठा सकती है। इसकी क़ीमत भी बाकी रिक्शा आदि की तुलना में काफी कम है। किफ़ायती होने की वजह से तथा इसके उपयोग में बिलकुल प्रदूषण नहीं होने आदि कारणों की वजह से सरकार भी इसका समर्थन करती है तथा इसके इस्तेमाल के लिए बढ़ावा दे रही है। फिलहाल महारष्ट्र, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, गुजरात और राजस्थान इन राज्यों में सरकार ने इसे अनुमोदित किया है, मेरठ में ये काफी सफल रहा है।

1. https://www.census2011.co.in/census/city/101-meerut.html
2. https://www.indiamart.com/unicornauto/electric-auto-rickshaws.html



RECENT POST

  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM


  • प्राचीन समय में होता था नक्षत्रों के माध्यम से खगोलीय घटनाओं का पूर्वानुमान
    जलवायु व ऋतु

     03-12-2018 05:15 PM