मृद्भांड और धर्म का सम्बन्ध

मेरठ

 07-03-2018 11:26 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

मेरठ भारत का एक अत्यंत प्राचीन शहर माना जाता है। तथा धार्मिक रूप से भी मेरठ एक बहुत प्रभावशाली शहर है। मेरठ में शुरुआत से किये जाने वाले व्यवसायों में से एक है मृद्भांड निर्माण का व्यवसाय। तो चलिए आज बात करते हैं मृद्भांड और धर्म के अटूट सम्बन्ध की। मृद्भांड को अपनी अनूठी विशेषताओं के कारण विश्व भर में सबसे ख़ास प्रकार का हस्तशिल्प माना जाता है। परन्तु धर्म के साथ मृद्भांड का सम्बन्ध उसे एक गहरा महत्त्व प्रदान करता है। मिट्टी के बर्तनों से कई धार्मिक कहानियाँ जुड़ी हैं जिनमें से कुछ आज हम प्रस्तुत कर रहे हैं।

मृद्भांड के मूल को स्पष्ट करते हुए एक काफी रंगीन उपाख्यान है जो बताता है कि जब देवताओं ने अमृत बनाने के लिए समुद्र को मथा, तब उन्हें उस अमृत को इकठ्ठा करके रखने के लिए एक बर्तन की आवश्यकता पड़ी। इसलिए शिल्पकार रुपी भगवान विश्वकर्मा ने मिट्टी के एक घड़े का निर्माण किया। उस समय से लेकर आज तक पानी से भरा मिट्टी का घड़ा एक अच्छे शगुन का प्रतीक है तथा उसके बिना कोई भी धार्मिक क्रिया सम्पूर्ण नहीं होती। यदि पूजा अर्चना के समय ईश्वर की कोई मूर्ती उपलब्ध ना हो, तब भी यह पानी से भरा घड़ा इस कर्तव्य को पूरा करता है और इसीलिए इसे ‘मंगलघट’ भी कहा जाता है जिसका सरल अनुवाद हुआ अच्छा शगुन।

कई प्रकार की मिट्टी से बनी वस्तुएं धार्मिक क्रियाओं में प्रयोग होती हैं जैसे दीये, फूलदान, संगीत वाद्ययंत्र आदि। एक सामान्य मृद्भांड बिलकुल साधारण होता है। अतः भारत में बिना किसी दिखावे के मृद्भांड की दिव्यता को बरक़रार रखने में विश्वास रखा जाता है। मृद्भांड की दिव्यता को दर्शाता हुआ एक और उपाख्यान है जो इसका इश्वर के साथ सम्बन्ध स्पष्ट करता है। कहते हैं कि जब भगवान शिव माँ पारवती से विवाह के लिए तैयार हो रहे थे तब उन्होंने देखा कि उनके पास संस्कार-सम्बन्धी पानी का घड़ा नहीं था। यह देख वे निराश हो गए। इस कारण उन्होंने एक मनके से एक मनुष्य का सृजन किया और उससे घड़ा बनाने के लिए कहा। वह मनुष्य कुछ मांग पूरी होने पर घड़े का निर्माण करने को तैयार हो गया। उसकी मांगें थी – शिव के बैठने वाला गोलाकार पत्थर जिसे वह अपने पहिये की तरह इस्तेमाल करे, उनकी ओखली जिससे वह पहिये को घुमाता रहे, उनका सिलबट्टा जिसमें वह पानी रखे, और शिव की माला से एक धागा जिसकी मदद से वह घड़े को पहिये से अलग करे।

इन सभी चीज़ों की मदद से वह मनुष्य कुम्भ का निर्माण करता है जिस वजह से मृद्भांड के निर्माता को कुम्हार का नाम मिला। इस कारण कई कुम्हार परंपरागत रूप से अपने विधाता के सम्मान में हर सवेरे एक दीया जलाते हैं।

1. हैंडीक्राफ्ट्स ऑफ़ इंडिया, कमलादेवी चट्टोपाध्याय



RECENT POST

  • लिडियन नाधास्वरम (Lydian Nadhaswaram) के हुनर को सलाम
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     21-04-2019 07:00 AM


  • अपरिचित है मेरठ की भोला बियर की कहानी
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     20-04-2019 09:00 AM


  • क्यों मनाते है ‘गुड फ्राइडे’ (Good Friday)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:41 AM


  • तीन लोक का वास्तविक अर्थ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 12:24 PM


  • यिप्रेस (Ypres) के युद्ध में मेरठ सैन्य दल ने भी किया था सहयोग
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     17-04-2019 12:50 PM


  • मेरठ का खूबसूरत विवरण जॉन मरे के पुस्तक में
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-04-2019 04:10 PM


  • पतन की ओर बढ़ता सर्कस
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:37 PM


  • 'अतुल्य भारत' की एक मनोरम झलक
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     14-04-2019 07:20 AM


  • रामायण और रामचरितमानस का तुलनात्मक विवरण
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:30 AM


  • शहीद-ए-आज़म उद्धम सिंह का बदला
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-04-2019 07:00 AM