मृद्भांड और धर्म का सम्बन्ध

मेरठ

 07-03-2018 11:26 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

मेरठ भारत का एक अत्यंत प्राचीन शहर माना जाता है। तथा धार्मिक रूप से भी मेरठ एक बहुत प्रभावशाली शहर है। मेरठ में शुरुआत से किये जाने वाले व्यवसायों में से एक है मृद्भांड निर्माण का व्यवसाय। तो चलिए आज बात करते हैं मृद्भांड और धर्म के अटूट सम्बन्ध की। मृद्भांड को अपनी अनूठी विशेषताओं के कारण विश्व भर में सबसे ख़ास प्रकार का हस्तशिल्प माना जाता है। परन्तु धर्म के साथ मृद्भांड का सम्बन्ध उसे एक गहरा महत्त्व प्रदान करता है। मिट्टी के बर्तनों से कई धार्मिक कहानियाँ जुड़ी हैं जिनमें से कुछ आज हम प्रस्तुत कर रहे हैं।

मृद्भांड के मूल को स्पष्ट करते हुए एक काफी रंगीन उपाख्यान है जो बताता है कि जब देवताओं ने अमृत बनाने के लिए समुद्र को मथा, तब उन्हें उस अमृत को इकठ्ठा करके रखने के लिए एक बर्तन की आवश्यकता पड़ी। इसलिए शिल्पकार रुपी भगवान विश्वकर्मा ने मिट्टी के एक घड़े का निर्माण किया। उस समय से लेकर आज तक पानी से भरा मिट्टी का घड़ा एक अच्छे शगुन का प्रतीक है तथा उसके बिना कोई भी धार्मिक क्रिया सम्पूर्ण नहीं होती। यदि पूजा अर्चना के समय ईश्वर की कोई मूर्ती उपलब्ध ना हो, तब भी यह पानी से भरा घड़ा इस कर्तव्य को पूरा करता है और इसीलिए इसे ‘मंगलघट’ भी कहा जाता है जिसका सरल अनुवाद हुआ अच्छा शगुन।

कई प्रकार की मिट्टी से बनी वस्तुएं धार्मिक क्रियाओं में प्रयोग होती हैं जैसे दीये, फूलदान, संगीत वाद्ययंत्र आदि। एक सामान्य मृद्भांड बिलकुल साधारण होता है। अतः भारत में बिना किसी दिखावे के मृद्भांड की दिव्यता को बरक़रार रखने में विश्वास रखा जाता है। मृद्भांड की दिव्यता को दर्शाता हुआ एक और उपाख्यान है जो इसका इश्वर के साथ सम्बन्ध स्पष्ट करता है। कहते हैं कि जब भगवान शिव माँ पारवती से विवाह के लिए तैयार हो रहे थे तब उन्होंने देखा कि उनके पास संस्कार-सम्बन्धी पानी का घड़ा नहीं था। यह देख वे निराश हो गए। इस कारण उन्होंने एक मनके से एक मनुष्य का सृजन किया और उससे घड़ा बनाने के लिए कहा। वह मनुष्य कुछ मांग पूरी होने पर घड़े का निर्माण करने को तैयार हो गया। उसकी मांगें थी – शिव के बैठने वाला गोलाकार पत्थर जिसे वह अपने पहिये की तरह इस्तेमाल करे, उनकी ओखली जिससे वह पहिये को घुमाता रहे, उनका सिलबट्टा जिसमें वह पानी रखे, और शिव की माला से एक धागा जिसकी मदद से वह घड़े को पहिये से अलग करे।

इन सभी चीज़ों की मदद से वह मनुष्य कुम्भ का निर्माण करता है जिस वजह से मृद्भांड के निर्माता को कुम्हार का नाम मिला। इस कारण कई कुम्हार परंपरागत रूप से अपने विधाता के सम्मान में हर सवेरे एक दीया जलाते हैं।

1. हैंडीक्राफ्ट्स ऑफ़ इंडिया, कमलादेवी चट्टोपाध्याय



RECENT POST

  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM


  • प्राचीन समय में होता था नक्षत्रों के माध्यम से खगोलीय घटनाओं का पूर्वानुमान
    जलवायु व ऋतु

     03-12-2018 05:15 PM