इंटरनेट की दुनिया में हिंदी का विकास

मेरठ

 16-08-2018 12:55 PM
ध्वनि 2- भाषायें

आज के युग में अधिकांश लोग प्रौद्योगिकी से घिरे हुए हैं। समुद्र में पानी की तरह, लोग हर दिन प्रौद्योगिकी में तैर रहे हैं। लोग प्रौद्योगिकी पर अधिक से अधिक आश्रित हो रहे हैं, हम भी अपने आस पास लोगो को इंटरनेट से घिरा हुआ देख सकते हैं। इंटरनेट ने 1997 से ही विश्व में अपनी पहचान बना ली थी, तब तक इंटरनेट जानकारी प्रदान करने का अच्छा स्रोत बन चुका था। इसने मानव जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में अपनी छाप छोड़ी है।

लेकिन क्या हमने कभी इस बात पर ध्यान दिया है कि भारत में सबसे ज्यादा बोलने वाली भाषा और दुनिया की चौथी सबसे आम भाषा हिन्दी का उपयोग इंटरनेट में काफ़ी कम है। हम जब भी इंटरनेट में कुछ खोजते हैं तो हमको हिंदी की तुलना में अंग्रेजी में अधिक सामग्री देखने को मिलती है। हिन्दी भाषा में सामग्री कम उपलब्‍ध होने का मुख्य कारण यह है कि अधिकांश भारतीय लोग यह नहीं जानते कि इंटरनेट पर देवनागरी(हिंदी) लिपि कैसे टाइप करते हैं। इस आधुनिक तकनीक की दुनिया में हिन्दी लिखने के लिए कई ऐप लॉन्च हो गए हैं, और साथ ही देवनागरी लिपि में टाइप करने के लिए, इन्स्क्रिप्ट कीबोर्ड(जो भारत सरकार द्वारा अनुमोदित है) का उपयोग भी एक स्थायी और आसान समाधान है। हम इन्हें अपने कंप्यूटर पर स्थापित कर, हिन्दी में अपने विचार लिख सकते हैं।

हिंदी भाषा विषय यानी देवनागरी विषय को लिखने और बनाने की कोशिश करने वाले कई लोगों द्वारा तकनीकी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। आइए हम इन मुद्दों को समझे, यदि आप देवनागरी विषय के बजाय आप बॉक्‍स और प्रश्न चिह्न देखते हैं, तो आपको अपने वेब ब्राउज़र पर स्थित कोडिंग और डिकोडिंग को UTF(Unicode Transformation Format) में बदलें। वहीं हमको ये ध्यान रखना होगा कि हिंदी (देवनागरी विषय) विभिन्न ब्राउज़रों (क्रोम, फ़ायरफ़ॉक्स, माइक्रोसॉफ्ट इत्यादि) और विभिन्न उपकरणों पर अलग-अलग खुलती है।

एक रिपोर्ट के अनुसार "वेब पर हिन्दी सामग्री का उपयोग बढ़ रहा है। यह अंग्रेजी सामग्री के 19 प्रतिशत की वृद्धि की तुलना में वर्ष-दर-वर्ष 94 प्रतिशत बढ़ गयी है।"

10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है। इस दिन को हिन्दी की महानता को बढ़ावा देने के लिए शुरू किया गया था, जो दुनिया में 250 मिलियन से अधिक लोगों द्वारा बोली जाने वाली भाषा है और यह दुनिया की चौथी सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली भाषा है।

संदर्भ-

1.https://www.ashtangayoga.info/sanskrit/fonts-schriften-fuer-devanagari-und-lautschrift-iso-15919/sanskrit-devanagari-problem-solving/
2. http://studenttravelplanningguide.com/global-trends-in-foreign-language-demand-and-proficiency/
3.https://www.businesstoday.in/technology/internet/google-says-hindi-content-consumption-on-internet-growing-at-94-percent/story/222861.html



RECENT POST

  • मेरठवासियों के लिए सिर्फ 170 किमी दूर हिल स्टेशन
    पर्वत, चोटी व पठार

     18-12-2018 11:58 AM


  • लुप्त होने के मार्ग पर है बुनाई और क्रोशिया की कला
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     17-12-2018 01:59 PM


  • दुनिया का सबसे ठंडा निवास क्षेत्र, ओयम्याकोन
    जलवायु व ऋतु

     16-12-2018 10:00 AM


  • 1857 की क्रांति में मेरठ व बागपत के आम नागरिकों का योगदान
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-12-2018 02:10 PM


  • मिठास की रानी चीनी का इतिहास
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     14-12-2018 12:12 PM


  • वृक्षों का एक लघु स्वरूप 'बोन्साई '
    शारीरिक

     13-12-2018 04:00 PM


  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM