मेरठ कि वास्तुकला: भारतीय, इस्लामिक और गोथिक का मेल

मेरठ

 14-06-2017 12:00 PM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन
जैसे की हम जानते हैं मेरठ जिला एक लम्बे समय तक अंग्रजों के अधीन रहा था। इसकी झलक यहाँ की पुरानी इमारतों तथा वास्तु कलाओं में साफ़ रूप से दिखाई देती हैं। अंग्रेजों द्वारा बनाये वस्तुओं के आलावा बेगम समरू का वास्तुकला क्षेत्र मे किया गया कार्य उल्लेखनीय है। मेरठ में अंग्रेजी वास्तुकला के आलावा इस्लामिक वास्तु भी बहुत उभर के दिखाई देती है। बेगम समरू द्वारा बनाया गया बेसलिका ऑफ़ लेडी ग्रेस वास्तु कला के रूप मे एक उत्तम उदाहरण है। यहाँ कि वास्तुकला मे एक अलग प्रकार का मिश्रण दिखता है जिसमे भारतीय कला व गोथिक वास्तु का मेल है। 1. विमेंस आईज, विमेंस हैंड मेकिंग आर्ट एण्ड आर्किटेक्चर इन मॉडर्न इन्डिया: डी. फैरचाइल्ड रुग्ग्लेस 2. हिस्ट्री ऑफ़ इंडियन आर्किटेक्चर- जेम्स फर्गुसन

RECENT POST

  • भारत में महत्वपूर्ण पर्यावरण संरक्षण अधिनियम क्या हैं?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     22-01-2019 02:41 PM


  • डिजिटल भारत का महत्वाकांक्षी उपग्रह जीसैट-11
    संचार एवं संचार यन्त्र

     21-01-2019 01:58 PM


  • जब तोड़ दी गयी 140 कि.मी लम्बी बर्लिन की दीवार
    ध्वनि 2- भाषायें

     20-01-2019 10:00 AM


  • आखिर क्या है ये स्मॉग, जिससे हो रही हैं अनेक बीमारियां
    जलवायु व ऋतु

     19-01-2019 01:00 PM


  • कैसे पैदा की जाती है जल से बिजली?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-01-2019 12:00 PM


  • क्या हैं भूकप के कारण, प्रकार एवं उसके माप
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     17-01-2019 01:47 PM


  • क्या होती है ये क्लाउड कंप्यूटिंग?
    संचार एवं संचार यन्त्र

     16-01-2019 02:32 PM


  • नई प्रतिभा को मौका देती आईडिएट फॉर इंडिया प्रतियोगिता
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     15-01-2019 12:38 PM


  • मकर संक्रांति पर खेला जाने वाला एक दुर्लभ खेल, पिट्ठू
    हथियार व खिलौने

     14-01-2019 11:15 AM


  • सन 1949 से आया एकता का सन्देश
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     13-01-2019 10:00 AM