अस्थिसंधि: प्रकृति की देन

मेरठ

 03-04-2018 11:57 AM
पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

अस्थिसंधि अथवा हाडजोड़ यह नाम बहुत ही कम लोगों ने सुना होगा। यह प्रकृति की मानव को दी हुई देन है। इसके नाम से ही इसका गुण समझ आता है, अस्थि (हड्डी) और संधि (जोड़ना)। हमारी अस्थि मतलब हड्डियों के दुःख निवारण का काम यह औषधी जड़ी बूटी करती है। आयुर्वेद जो भारत कि जग को दी हुई अनमोल भेंट है, उसमें भी इस लता-पेड़ का महत्व अधोरेखित किया गया है। यह पेड़ सिस्सुस (Cissus) प्रजाति से है जिसकी पूरे विश्वभर में 300 से भी अधिक जातियां उपलब्ध हैं तथा भारत और महाखंड में तक़रीबन 7 प्रजातियाँ पायी जाती हैं। सिस्सुस आड़नाटा (Cissus Adnata) और सिस्सुस क्वोद्रांगुलारिस (Cissus Quadrangularis) ये भारत में बहुतायता से मिलने वाले प्रकार हैं।

यूनानी दवाइयां और हाड़-वैद्य भी इसका इस्तेमाल करते हैं। हड्डी के अलावा मज्जातंतु के दुःख पर, जख्म पर, विषबाधा, सर्पदंश, पीलिया, कुष्ठरोग आदि के उपचार के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। इसका पेड़ तक़रीबन 10 मी. की ऊंचाई तक बढ़ता है और बंबू आदि का इस्तेमाल कर इसकी लता को सहारा दिया जाता है। इस पेड़ के हर हिस्से का दवाई के लिए इस्तेमाल होता है। इसका इस्तेमाल करने वाले आयुर्वेदाचार्य और हकीम बाहर से इसे मंगाते हैं क्योंकि कृशिवल व्यावसायिक तौर पर इसकी उपज नहीं करते, ज्यादातर इसे उद्यान में लगाया जाता है।

1. https://marathivishwakosh.maharashtra.gov.in/khandas/
2. फ़्लोरा ऑफ़ द अप्पर गंगेटिक प्लेन अन्द्फ़ ऑफ़ द अद्जसेंट सिवालिक एंड सब-हिमालयन ट्रैक्स- दुथी एंड पार्कर आदि
3. http://www.theplantlist.org/about/#tropicos
4. http://www.pankajoudhia.com/set62.pdf



RECENT POST

  • मेरठवासियों के लिए सिर्फ 170 किमी दूर हिल स्टेशन
    पर्वत, चोटी व पठार

     18-12-2018 11:58 AM


  • लुप्त होने के मार्ग पर है बुनाई और क्रोशिया की कला
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     17-12-2018 01:59 PM


  • दुनिया का सबसे ठंडा निवास क्षेत्र, ओयम्याकोन
    जलवायु व ऋतु

     16-12-2018 10:00 AM


  • 1857 की क्रांति में मेरठ व बागपत के आम नागरिकों का योगदान
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-12-2018 02:10 PM


  • मिठास की रानी चीनी का इतिहास
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     14-12-2018 12:12 PM


  • वृक्षों का एक लघु स्वरूप 'बोन्साई '
    शारीरिक

     13-12-2018 04:00 PM


  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM