Machine Translator

मेरठ की नानखटाई क्यों हैं इतनी स्वादिष्ट

मेरठ

 09-02-2018 10:26 AM
स्वाद- खाद्य का इतिहास

गर्मी का मौसम शुरू होते ही मेरठ की मशहूर नान खटाई की खुशबू शहर के हलवाइयों की दुकानों में महकने लगती है। जिस तरह से सर्दी के मौसम में मेरठ की गजक रेवड़ी की डिमांड रहती है, उसी तरह गर्मी में नान खटाई का स्वाद लोग चखने के लिए बेताब रहते हैं। जैसे-जैसे गर्मी बढ़ रही है, दुकानदारों की दुकानों पर नान खटाई के थाल सजने लगे हैं।
मेरठ की मशहूर नान खटाई देश भर में प्रसिद्ध है। पुराने समय की एक ऐसी चीज जिसका स्वाद समय के साथ बदल कर और स्वादिष्ट हो गया है। इस नान खटाई की खासियत है कि इसे मुंह में रखते ही ये घुल जाती है। नान खटाई को बड़ी ही सावधानी के साथ तैयार किया जाता है। ज़रा सी भी चूक से इसके आकार, मजा और स्वाद तीनों ही बिगड़ जाता है। मेरठ की इस नान खटाई को बनाने में मूंग दाल, ड्राई फ्रूट, बेसन का मिश्रण लिया जाता है। सबसे पहले मूंग की दाल और ड्राई फ्रूट को पिसकर उसको बेसन में मिलाया जाता है। पूरी तरह से उसको मिक्स कर दिया जाता है तो उसको धीमी आंच पर पकाते है। ज़रा सी भी तेज आग या समय से ज्यादा तक बेक करने पर इसका स्वाद बिगड़ जाता है। मेरठ में ये बहुत मशहूर है। वहां के नाश्ते में नान खटाई न हो तो नाश्ता अधूरा माना जाता है| यहां के लोग अच्छे खाने के शौकीन हैं
मेरठ में तैयार हो रही नान खटाई की कीमत 150 रुपए से 300 रुपए किलो तक है। देशी घी से तैयार नान खटाई महंगी होती है। बाजार में काजू नान खटाई, काजू बादाम नान खटाई, मूंग बादाम नान खटाई आदि किस्म बाज़ार में मौजूद है।



RECENT POST

  • मेरठ के औघड़नाथ मंदिर का स्वयंभू शिवलिंग एवं अन्य प्रकार के शिवलिंग
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     20-11-2018 01:14 PM


  • जातिप्रथा, सतिप्रथा, अशिक्षा आदि के विरुद्ध खड़ा रामकृष्ण मिशन
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-11-2018 12:07 PM


  • बॉलीवुड में जैज़ का आगमन
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     18-11-2018 11:55 AM


  • हिंदी कविताओं और यहाँ तक कि हिंदी भाषा को प्रभावित करने वाले रूमी
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-11-2018 05:50 PM


  • फैनी पार्क्स की यात्रावृत्‍तांत में 1822 के मेरठ का वर्णन
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-11-2018 03:27 PM


  • मेरठ के लोगों द्वारा विस्मृत हुए अफगानी सरधना के नवाब
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-11-2018 06:07 PM


  • इंडोनेशिया और भारत के सदियों पुराने नाते
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     14-11-2018 12:55 PM


  • लक्ष्‍मी और अष्‍ट लक्ष्‍मी के दिव्‍य स्‍वरूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-11-2018 12:30 PM


  • प्रथम विश्‍व युद्ध के दौरान भारतीय सेना की यूरोप में स्थिति
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-11-2018 05:41 PM


  • कैसे खड़ी हो एक महिला कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न के खिलाफ़
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     11-11-2018 10:00 AM