Machine Translator

मेरठ का संत. जॉन क़ब्रिस्तान

मेरठ

 02-02-2018 11:14 AM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

संत जॉन क़ब्रिस्तान मेरठ के छावनी क्षेत्र में, जो मेरठ कैंटोनमेंट नाम से प्रसिद्ध है, वहाँ पर स्थित है। ये मेरठ का दूसरा सबसे पुराना क़ब्रिस्तान है जिसे यूरोपीय नागरिक, ब्रिटिश सैनिक एवं उनके परिवार के लिए बनाया गया था। मेरठ का सबसे पुराना क़ब्रिस्तान गोल्फ कोर्स, मेरठ कैंट में स्थित है जो 1810 तक कार्यरत था। इस सबसे पुराने क़ब्रिस्तान को यहाँ पर ओल्ड तथा पोर्तुगीज समेटेरी(क़ब्रिस्तान) के नाम से भी जाना जाता है। ब्रिटिश सरकार ने जब मेरठ में छावनी बनाई तब यहाँ पर ब्रिटिश सैनिक, अफसर और उनके परिवारों के साथ काफी यूरोपीय लोग भी आकर बसने लगे। इन लोगों के अलावा इसाई धर्म का प्रचार व प्रसार भी बड़े पैमाने पर हो रहा था जिस कार्य में बेगम समरू आदि शाही व्यक्ति भी शामिल थे। इनके लिए धर्मपालन के लिए धार्मिक स्थलों की निर्मिती की गयी जैसे गिरिजा घर, प्रार्थना स्थल आदि। सेंट जॉन द बैप्टिस्ट चर्च ब्रिटिश सैन्य के पादरी रेवरेंड हेनरी फिशर ने सन 1819 में बनवाया था। इस चर्च से जुड़ा संत जॉन क़ब्रिस्तान मुख्य चर्च से बस थोड़े ही दुरी पर स्थित है। यहाँ पर दो कब्रें हैं जिन्हें सबसे पुरानी माना जाता है जो सन 1810 की हैं और जिन्हें सन 1900 की शुरुवात में छावनी के न्यायाध्यक्ष श्री.पार्कर ने ढूंडा था। इस क़ब्रिस्तान में अन्दर जाते वक़्त दिवार में चुनवाए एक संगमरमर के फलक पर ये लिखा हुआ है की इसके उपयोग की शुरुवात 1807 से हुई तथा इसके विस्तारक्षेत्र के मुताबिक इस क़ब्रिस्तान को 5 प्रमुख हिस्सों में बांटा गया है एवं इस क़ब्रिस्तान के पूर्व और पश्चिम में दो द्वार हैं। इस चर्च से बहुतसी कहानियाँ जुडी हैं। यहाँ पर 9 यूरोपीय लोगों की कब्र है जिनकी 10 मई 1857 की गदर में मृत्यु हुई थी। महत्वपूर्ण लोगों की कब्रों को बड़े सुन्दर तरीके से बनाया गया है उदाहरणार्थ बहुतसी कब्रों पर प्रभावशाली यूनानी-रोमन भवन जैसी सरंचना है तथा कुछ कब्रों पर लगाये गए समाधी स्तंभ और फरिश्तों की मूर्तियाँ यूरोपीय-रोमन कला के उत्तम नमूने हैं। प्रस्तुत चित्रों में से पहला चित्र संत जॉन क़ब्रिस्तान का है तथा दूसरा उस क़ब्रिस्तान के बारे में जानकारी देने वाला स्तंभ है। 1. द ग्रेट इंडियन इन्फेर्नो: पी.वी.जगमोहना https://goo.gl/K2oZkv 2. मेरठ द फर्स्ट फिफ्टी-सिक्स इयर्स ((1815-1875): ए.जी. हारफिल्ड https://goo.gl/Bz1Bfr 3. डिस्ट्रिक्ट गज़ेटियर ऑफ़ द यूनाइटेड प्रोविन्सेस ऑफ़ आग्रा एंड औध: हेन्री रिवेन नेविल, 1904 4. द हिस्ट्री ऑफ़ क्रिस्चानिटी इन इंडिया- फ्रॉम द कमेंसमेंट ऑफ़ द क्रिस्चियन एरा, वॉल्यूम 4: जेम्स हौग्ह 5. इन द दोआब एंड रोहिलखंड- नार्थ इंडियन क्रिस्चानिटी 1815- 1915: जेम्स आल्टर 6. अ हिस्ट्री ऑफ़ द चर्च ऑफ़ इंग्लैंड इन इंडिया: एयर चाटरटन http://anglicanhistory.org/india/chatterton1924/22.html



RECENT POST

  • जातिप्रथा, सतिप्रथा, अशिक्षा आदि के विरुद्ध खड़ा रामकृष्ण मिशन
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-11-2018 12:07 PM


  • बॉलीवुड में जैज़ का आगमन
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     18-11-2018 11:55 AM


  • हिंदी कविताओं और यहाँ तक कि हिंदी भाषा को प्रभावित करने वाले रूमी
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-11-2018 05:50 PM


  • फैनी पार्क्स की यात्रावृत्‍तांत में 1822 के मेरठ का वर्णन
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-11-2018 03:27 PM


  • मेरठ के लोगों द्वारा विस्मृत हुए अफगानी सरधना के नवाब
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-11-2018 06:07 PM


  • इंडोनेशिया और भारत के सदियों पुराने नाते
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     14-11-2018 12:55 PM


  • लक्ष्‍मी और अष्‍ट लक्ष्‍मी के दिव्‍य स्‍वरूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-11-2018 12:30 PM


  • प्रथम विश्‍व युद्ध के दौरान भारतीय सेना की यूरोप में स्थिति
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-11-2018 05:41 PM


  • कैसे खड़ी हो एक महिला कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न के खिलाफ़
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     11-11-2018 10:00 AM


  • प्रवास के समय पक्षियों की गति प्रभावित करने वाले कारक
    पंछीयाँ

     10-11-2018 10:00 AM