Machine Translator

मेरठ में इंसान एवं जानवर

मेरठ

 24-05-2017 12:00 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति
इंसानों और जानवरों का एक बेहद गहरा आपसी रिश्ता प्राचीन काल से चला आ रहा है| इसका सबसे बड़ा उदहारण यह है की प्राचीन काल से ही मानव और जानवर एक ही वातावरण में रहें तथा आपसी ज़रूरतों को पूर्ण किया| आज के समाज में प्रत्येक इंसान किसी न किसी तरह से जानवरों तथा पशुओ पर निर्भर है| अगर राज्य की सुक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग की विज्ञप्ति को आधार मानें तो मेरठ जिले मे करीब डेढ़ लाख गायें तथा करीब साढ़े छः लाख भैंसे हैं| इसके अलावा करीब 45 हज़ार बकरियां 19 हज़ार सुअर व करीब 1.5 लाख मुर्गियाँ हैं| प्रति एक लाख पशुधन पर मेरठ जिले मे 4 जानवरों के अस्पताल कार्यरत हैं| यहाँ पर रहने वाले प्रत्येक 12 इंसान पर एक दुधारू जानवर है| यहाँ डेयरी का रोजगार और साथ ही साथ मुर्गी पालन का व्यवसाय आम जनता को रोजगार दिला सकता है| सुक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग की रिपोर्ट के अनुसार आने वाले समय में पोल्ट्री-खाद्य, पशु का चारा – दोनों उद्योग, व्यवसायवृद्धि की काफी क्षमता रखते हैं|

RECENT POST

  • प्रथम विश्‍व युद्ध के दौरान भारतीय सेना की यूरोप में स्थिति
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-11-2018 05:41 PM


  • कैसे खड़ी हो एक महिला कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न के खिलाफ़
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     11-11-2018 10:00 AM


  • प्रवास के समय पक्षियों की गति प्रभावित करने वाले कारक
    पंछीयाँ

     10-11-2018 10:00 AM


  • आइये समझें एक स्वच्छता तंत्र को जो हो सकता है मेरठ के लिए लाभदायक
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     09-11-2018 10:00 AM


  • यातायात से जुड़े आम लेकिन इन खास नियमों के बारे में शायद ही हर भारतीय को पता हो
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     08-11-2018 10:00 AM


  • शिव पार्वती की प्रतिमा देती है दिवाली पर जुआ न खेलने का सन्देश
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     07-11-2018 12:31 PM


  • हज़ारों साल पुराना है टूथपेस्ट का इतिहास
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     06-11-2018 09:33 AM


  • जादूगरी की दुनिया के कुछ बेताज शहंशाह
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     05-11-2018 02:39 PM


  • रविवार वीडियो: खुशियों की चाबी है खुश रहने में
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     04-11-2018 10:00 AM


  • भारत को एकता के धागे में पिरो गए लौह पुरुष
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     03-11-2018 12:37 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.