Machine Translator

मॉलिवुड : मेरठ का फिल्म उद्योग

मेरठ

 30-09-2018 10:37 AM
द्रिश्य 2- अभिनय कला

क्या आप जानते है के मेरठ का अपना सिनेमा है जिसे हम मॉलिवुड के रूप म जानते है मेरठ ने अपना खुद का लोकप्रिय सिनेमा उद्योग विकसित किया है, जिसे स्थानीय लोग मॉलिवुड के रूप में संदर्भित करते हैं। बॉलीवुड के विपरीत यहाँ, फिल्मों को सिनेमाघरों में रिलीज़ नहीं किया जाता है बल्कि सीडी के रूप में बाजार में वितरित किया जाता है। एक सीडी की कीमत 25 रुपये से 40 रुपये के बीच होती है। ये फिल्म हरियाणवी बोली में बने हैं, जो पश्चिमी उत्तर प्रदेश, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और राजस्थान के सीमावर्ती इलाकों में बेहद लोकप्रिय हैं। पश्चिमी उत्तर प्रदेश, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और राजस्थान के कुछ इलाकों में हरयाणवी बोली का अधिक रूप से इस्तेमाल के कारण यहाँ इनकी काफी लोकप्रियता है।

दिलचस्प बात यह है कि बड़ी स्क्रीन रिलीज के बिना भी, मोलिवुड को अच्छा कारोबार मिलता है, जो कई लाख रुपए तक होता है। शायद स्थानीय लोग स्थानीय कलाकारों के अभिनय का स्थानीय बोली में बहुत ज्यादा आनंद लेते है। विशेषज्ञों का मानना है कि चूंकि सिनेमाघरों में इन फिल्मों को रिलीज़ नहीं किया गया है, इसलिए व्यापार कारोबार की गणना करना मुश्किल है।

यह सब ऑडियो टेप पर दर्ज कॉमेडी कार्यक्रमों के साथ शुरू हुआ, जो 1990 के दशक में क्षेत्र में काफी लोकप्रिय थे। 20 वीं शताब्दी के अंत तक, ऑडियो टेप को सीडी द्वारा प्रतिस्थापित किया गया था। सीडी के आगमन के साथ, कॉमेडी ऑडियो बिजनेस ने एक पेशेवर मोड़ लिया और फिल्म और संगीत उत्पादन कंपनियों जैसे टी-सीरीज़ और मोसर बायर शामिल हो गए।

2004 में, फिल्म धाकड़ छोरा को रिलीज किया गया था (सीडी पर) और एक बड़ी हिट बन गई। यह उद्योग के संक्षिप्त इतिहास में एक मील का पत्थर था और अक्सर इस मोलिवुड फिल्म को शोले से तुलना की जाती है। यह आज फिल्मों की सफलता को मापने के लिए एक मानक बन गया है। अभिनेता उत्तर कुमार और सुमन नेगी स्थानीय युवाओं के लिए प्रतिमा बन गए, उनकी लोकप्रियता की तुलना बॉलीवुड के सुपरस्टार सलमान खान और ऐश्वर्या राय के साथ की गई थी।

हालांकि, 2006 तक, चीजें बदलना शुरू हो गयी। सीडी के दाम सस्ता हो गए और इस प्रकार बाजार में सीडियों की मात्र बड गई। वीडियो, सीडी प्रतिलिप होने लगी और फिल्मों की अवैध प्रतियों को स्वतंत्र रूप से प्रसारित किया जा रहा था। वितरकों ने व्यवसाय खोना शुरू कर दिया और उन्होंने फिल्मों की खरीद कीमत में कमी आई।

सन्दर्भ:
1. https://thewire.in/culture/meerut-film-industry-mollywood
2. https://timesofindia.indiatimes.com/city/meerut/Piracy-has-snuffed-life-out-of-Meerut-film-industry/articleshow/45321294.cms
3. https://www.youtube.com/watch?v=FcQt7nZBBUw


RECENT POST

  • जातिप्रथा, सतिप्रथा, अशिक्षा आदि के विरुद्ध खड़ा रामकृष्ण मिशन
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-11-2018 12:07 PM


  • बॉलीवुड में जैज़ का आगमन
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     18-11-2018 11:55 AM


  • हिंदी कविताओं और यहाँ तक कि हिंदी भाषा को प्रभावित करने वाले रूमी
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-11-2018 05:50 PM


  • फैनी पार्क्स की यात्रावृत्‍तांत में 1822 के मेरठ का वर्णन
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-11-2018 03:27 PM


  • मेरठ के लोगों द्वारा विस्मृत हुए अफगानी सरधना के नवाब
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-11-2018 06:07 PM


  • इंडोनेशिया और भारत के सदियों पुराने नाते
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     14-11-2018 12:55 PM


  • लक्ष्‍मी और अष्‍ट लक्ष्‍मी के दिव्‍य स्‍वरूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-11-2018 12:30 PM


  • प्रथम विश्‍व युद्ध के दौरान भारतीय सेना की यूरोप में स्थिति
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-11-2018 05:41 PM


  • कैसे खड़ी हो एक महिला कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न के खिलाफ़
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     11-11-2018 10:00 AM


  • प्रवास के समय पक्षियों की गति प्रभावित करने वाले कारक
    पंछीयाँ

     10-11-2018 10:00 AM