Machine Translator

अमीर ख़ुसरो की पहेलियाँ

मेरठ

 19-08-2018 01:36 PM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

किसी व्यक्ति की बुद्धि या समझ की परीक्षा लेने वाले एक प्रकार के प्रश्न, वाक्य अथवा वर्णन को पहेली कहते हैं। जिसमें किसी वस्तु का लक्षण या गुण घुमा फिराकर भ्रामक रूप में प्रस्तुत किया गया हो और उसे बूझने अथवा उस विशेष वस्तु का नाम बताने का प्रस्ताव किया गया हो, इसे 'बुझौवल' भी कहा जाता है। पहेली व्यक्ति के चतुरता को चुनौती देने वाले प्रश्न होते है। जिस तरह से गणित के महत्व को नकारा नहीं जा सकता, उसी तरह से पहेलियों को भी नज़रअन्दाज नहीं किया जा सकता।

हजरत अमीर खुसरो देहलवी 1253 ई को पटयाली में पैदा हुए। अमीर खुसरो ने हिन्दी साहित्य को अनगिनत पहेलियाँ दी है। खुसरो साहब का व्यक्तित्व काफी लुभावना था और साथ ही वे विभिन्न शैलियों में तीव्र थे.वह एक विद्वान् एवं कवी थे। उनकी रूचि इतिहास ,ज्योतिषी ,संगीत में भी थी। उनको विज्ञान से लेकर धर्म तक का ज्ञान था जिसकी वजह से वह 13वी शताब्दी के बहुत बड़े विद्वान् भी रहे।

तो आइये आज इस रविवार पर खुसरो की कुछ पहेलियाँ बूझी जाएँ। पहेलियों के उत्तर लेख के अंत में दिए गए हैं लेकिन उन्हें देखने से पहले प्रयास करें इन्हें स्वयं हल करने का-

1. ऊपर से वह सुखी साखी नीचे से पन्हाई
एक उतरी और एक चढ़ी एक ने टांग उठाई
मोटा डंडा खाने लागी यह देखो चतुराई
अमीर खुसरो यूँ कहें तुम अर्थ दियो बताई।



2. एक परुख है सुन्दर मूरत
जो देखे वह उसी की सूरत
फिक्र पहली पाई ना
बूझन लागी आई ना।









1.नाव
2.आइना

सन्दर्भ:
1. पुस्तक:अमीर खुसरो की पहेलियाँ,आइडल असीर देहलवी
2. Book:World of Khusrau,Aga Khan
3. https://hi.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%AA%E0%A4%B9%E0%A5%87%E0%A4%B2%E0%A5%80



RECENT POST

  • मेरठ के औघड़नाथ मंदिर का स्वयंभू शिवलिंग एवं अन्य प्रकार के शिवलिंग
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     20-11-2018 01:14 PM


  • जातिप्रथा, सतिप्रथा, अशिक्षा आदि के विरुद्ध खड़ा रामकृष्ण मिशन
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-11-2018 12:07 PM


  • बॉलीवुड में जैज़ का आगमन
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     18-11-2018 11:55 AM


  • हिंदी कविताओं और यहाँ तक कि हिंदी भाषा को प्रभावित करने वाले रूमी
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-11-2018 05:50 PM


  • फैनी पार्क्स की यात्रावृत्‍तांत में 1822 के मेरठ का वर्णन
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-11-2018 03:27 PM


  • मेरठ के लोगों द्वारा विस्मृत हुए अफगानी सरधना के नवाब
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-11-2018 06:07 PM


  • इंडोनेशिया और भारत के सदियों पुराने नाते
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     14-11-2018 12:55 PM


  • लक्ष्‍मी और अष्‍ट लक्ष्‍मी के दिव्‍य स्‍वरूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-11-2018 12:30 PM


  • प्रथम विश्‍व युद्ध के दौरान भारतीय सेना की यूरोप में स्थिति
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-11-2018 05:41 PM


  • कैसे खड़ी हो एक महिला कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न के खिलाफ़
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     11-11-2018 10:00 AM