Machine Translator

नीलगाय पहुंची टेक्सास, क्या हुआ अंजाम?

मेरठ

 09-07-2018 02:13 PM
निवास स्थान

नीलगाय भारतीय उपमहाद्वीप में पाया जाने वाला एक बड़ा बारहसिंगा प्रकार का जीव है। यह जीव कद काठी में बारहसींगा की तरह विशालकाय होता है जिनमें से नर नीलगाय शरीर में मादा से बड़ा और ताकतवर होता है। वहीं, मादा नर से भिन्न होती हैं, मादाओं का रंग हल्का भूरा होता है तथा नरों को सींग होते हैं लेकिन मादाओं को नहीं। वैसे तो यह एक हिरण परिवार का पशु है, लेकिन हम इसे गाय के परिवार से जोड़ कर देखते हैं। तराई क्षेत्र और उत्तर भारत वह जगह है जहां नीलगाय मुख्य रूप से पाया जाता है, हालांकि दक्षिणी भारत में 2 असाधारण स्थान ऐसे भी हैं जहां पर ये पाए जाते हैं। नर और मादा दोनों के गर्दन पर छोटे छोटे कड़े बाल होते हैं। नीलगाय इतने गतिशील होते हैं कि यदि वे चाहें तो वे एक घोड़े से भी तेज़ दौड़ सकते हैं।

नीलगाय एक अत्यंत सुंदर जीव है जो कि जंगलों और खेतों आदि में पाया जाता है। ब्रिटिश काल में अनेक जीवों को भारत से विदेशों मे ले जाया गया था, जैसे कि हाथी, गैंडा आदि। इन्हीं जानवरों में नीलगाय भी एक ऐसा जीव है जिसे विदेश ले जाया गया था। भारत से अमेरिका में करीब 1930 से 1940 के बीच कुछ अमेरीकियों द्वारा भारत से नीलगाय आयात किया गया था। उदहारण के तौर पर टेक्सास के एक खेत ‘किंग रैंच’ (King Ranch) ने भारत से नीलगाय ले जाने की शुरुआत की थी। नीलगाय ऐसा जीव है जो कि खाद्य की उपलब्धता पाने पर अपनी संख्या में अप्रतिम वृद्धि करता है। और इसके परिणामस्वरूप आज टेक्सास में नीलगाय की तादात इतनी बढ़ गयी है कि उनका शिकार किया जा रहा है। उसी राज्य में आजकल रैंच शिकारियों को आकर्षित करने के लिए मनोरंजक और आर्थिक रूप से भी प्रोत्साहित कर रहे हैं।

यह जानवर देखने मे अत्यंत सुंदर है और यह एक शांत प्रवृत्ति का जानवर है जो किसी भी प्रकार की आक्रामकता नहीं दिखाता है। यह जानवर खेतों में फसलों आदि को खाता है जिसकी वजह से उत्तर प्रदेश की सरकार ने इसकी हत्या करने की इजाज़त दे दी। सरकार का यह मानना था कि यह जीव कृषि में व्यवधान लाता है और किसानों की उपज पर प्रभाव पड़ता है। अब यहां पर यह जानने की जरूरत है कि आख़िर यह जरूरत ही क्यूँ पड़ी कि ऐसे जानवर का शिकार किया जाए, इसका मामला वास्तव में मानव की जनसंख्या वृद्धि से जुड़ा हुआ है। मानव की जनसंख्या ने इस प्रकार से वृद्धि की, कि हमने इन जानवरों के प्राकृतिक स्थल पर अपना खेत, घर आदि बना लिया। हमें यह जानने की आवश्यकता है कि क्या हमें इन जानवरों का शिकार करना चाहिए या नहीं, क्यूंकि ये तो अपने प्राकृतिक स्थान पर ही हैं। ये तो हम मानव हैं जिन्होंने इनके प्रभाव क्षेत्र में सेंधमारी का कार्य किया है।

कितने ही जीव इसी प्रकार से विलुप्त हो चुके हैं। उनमें नीलगाय बच गयी हैं और हम इसके प्रति सहानुभूति रखने के बजाय इनके शिकार की तरफ अग्रसर हैं, कहीं ऐसा ना हो कि ये जानवर पूर्ण रूप से विलुप्त हो जायें, यदि हम इसी प्रकार से इनको मारना जारी रखें।

संदर्भ:
1.http://www.factzoo.com/mammals/nilgai-blue-bull-india-antelope.html
2.https://tshaonline.org/handbook/online/articles/tcn01
3.https://www.themonitor.com/article_68883719-99ac-5a10-b4e5-14f61a00e837.html
4.http://articles.latimes.com/2007/apr/29/news/adna-antelope29
5.https://www.hindustantimes.com/india/akhilesh-govt-mulls-bounty-on-pesky-nilgais/story-WqJOhEySjLMM1S7ZxjS1dN.html
6.https://indianexpress.com/article/india/india-news-india/if-you-love-gai-nilgai-so-much-keep-them-at-shakhas-nitish-kumar-tells-rss-bjp-2958438/



RECENT POST

  • मेरठ के औघड़नाथ मंदिर का स्वयंभू शिवलिंग एवं अन्य प्रकार के शिवलिंग
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     20-11-2018 01:14 PM


  • जातिप्रथा, सतिप्रथा, अशिक्षा आदि के विरुद्ध खड़ा रामकृष्ण मिशन
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-11-2018 12:07 PM


  • बॉलीवुड में जैज़ का आगमन
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     18-11-2018 11:55 AM


  • हिंदी कविताओं और यहाँ तक कि हिंदी भाषा को प्रभावित करने वाले रूमी
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-11-2018 05:50 PM


  • फैनी पार्क्स की यात्रावृत्‍तांत में 1822 के मेरठ का वर्णन
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-11-2018 03:27 PM


  • मेरठ के लोगों द्वारा विस्मृत हुए अफगानी सरधना के नवाब
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-11-2018 06:07 PM


  • इंडोनेशिया और भारत के सदियों पुराने नाते
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     14-11-2018 12:55 PM


  • लक्ष्‍मी और अष्‍ट लक्ष्‍मी के दिव्‍य स्‍वरूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-11-2018 12:30 PM


  • प्रथम विश्‍व युद्ध के दौरान भारतीय सेना की यूरोप में स्थिति
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-11-2018 05:41 PM


  • कैसे खड़ी हो एक महिला कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न के खिलाफ़
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     11-11-2018 10:00 AM