Machine Translator

धर्म अनेक परन्तु ईश्वर एक

मेरठ

 23-06-2018 03:11 PM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

धर्मों की फुलवारी एक ऐसा गुलदस्ता है, जिसकी महक से पूरा विश्व महकता है। धर्म का अर्थ किसी जाति विशेष से नहीं है। यह फुलवारी एक ऐसी फुलवारी है, जहां पर सब धर्म के फूल खिलखिलाते हैं बिना किसी भेदभाव के और अपनी खुशबू अर्थात एकता से इस सुंदर फुलवारी को सींचते हैं।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के अनुसार, ईश्वर-अल्लाह एक ही नाम हैं। बस उनको पूजने का तरीका हर जाति विशेष के अनुसार अलग-अलग है। हर देश और हर भेष में उसके नाम अनेक हैं, लेकिन वो ईश्वर एक ही है। प्रत्येक व्यक्ति अपने विश्वास के अनुसार उसका सुमिरन करता है। उनके अनुसार, यदि सभी धर्मों का एक ही स्त्रोत है, तो हमें उन्हें संश्लेषित करना होगा। आज उन्हें अलग-अलग देखा जाता है और इसी कारण हम एक-दूसरे की जान आसानी से ले लेते हैं। यहां धर्म का अर्थ सांप्रदायिकता नहीं है। यह धर्म- हिन्दू धर्म, इस्लाम धर्म और ईसाई धर्म से आगे है। यह उनमें सामंजस्य बनाता है और उन्हें वास्तविकता प्रदान करता है।

दुनिया के महान धर्म जब एक साथ चलते हैं, तो आध्यात्मिक और दार्शनिक ज्ञान का जबरदस्त जलाशय बनाते हैं। उदाहरण के लिए- नेपाल में कई लोग हैं, जो हिन्दू और बौद्ध धर्म दोनों को मानते हैं। दूसरी ओर जापान में प्रसिद्ध कहानियों के अनुसार, लोग शिन्टो परम्परा में पैदा होते हैं, ईसाईयों के रूप में शादी करते हैं और अंत में बौद्धों के रूप में मर जाते हैं।

स्वामी शिवानंद के अनुसार- “सभी धर्म एक हैं। वे एक दिव्य जीवन जीना सिखाते हैं। मैं सभी धर्मों के संतों और भविष्य वक्ताओं का सम्मान करता हूं। मैं सभी धर्मों के सभी सम्प्रदायों का भी सम्मान करता हूं। मैं सभी की सेवा करता हूं, सभी से प्यार करता हूं, सभी के साथ मिल-जुलकर रहता हूं और सभी लोगों में भगवान को पाता हूं”।

सभी धर्मों में सत्य का मिश्रण होता है, जो दिव्य है और जो त्रुटि है- वो मानव है। सभी धर्मों का मूलभूत समान है, केवल अनिवार्यता में अंतर है। सत्य न तो हिन्दू और न ही मुस्लिम है, न ही बौद्ध और न ही ईसाई है। सत्य एक सजातीय, शाश्वत पदार्थ है। सत्य के धर्म का अनुयायी प्रकाश, शांति, ज्ञान, शक्ति और आनंद के मार्ग पर चलता है।

मनुष्य अज्ञानता में शक्ति और लोभ की वासना के कारण अपने धर्म को भूल जाता है। वह नास्तिक बन गया है और क्रूर बन गया है। वह नैतिकता भूल कर विनाश की राह पर चल रहा है। कोई बौद्ध धर्म का प्रचार करता है, लेकिन इच्छाओं और हिंसा को नहीं छोड़ पाता। कोई ईसाई धर्म का प्रचार करता है, लेकिन क्षमा और प्यार का अभ्यास नहीं करता है। कोई इस्लाम का प्रचार करता है, लेकिन मनुष्यता और भाईचारे को नहीं पहचानता है और कोई हिन्दू धर्म का प्रचार करता है, लेकिन प्रकाश को महसूस नहीं करता है। आज के दौर में प्रचार पुरूषों की आजीविका बन गया है, जबकि अभ्यास घृणित वस्तु।

हरिवंशराय बच्चन जी के शब्दों में-

नफरतों का असर देखो,
जानवरों का बंटवारा हो गया,
गाय हिन्दू हो गयी,
और बकरा मुसलमान हो गया।

मंदिरों में हिन्दू देखे,
मस्जिदों में मुसलमान,
शाम को जब मयखाने गया,
तब जाकर दिखे इंसान।

संदर्भ
1. https://berkleycenter.georgetown.edu/quotes/mohandas-gandhi-on-the-unity-of-all-religions

2. https://www.speakingtree.in/article/the-unity-of-religions-688202
3. http://www.dlshq.org/religions/unirel.htm
4. https://www.indiatimes.com/culture/who-we-are/10-images-of-religious-unity-that-define-the-idea-of-india-228132.html



RECENT POST

  • जातिप्रथा, सतिप्रथा, अशिक्षा आदि के विरुद्ध खड़ा रामकृष्ण मिशन
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-11-2018 12:07 PM


  • बॉलीवुड में जैज़ का आगमन
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     18-11-2018 11:55 AM


  • हिंदी कविताओं और यहाँ तक कि हिंदी भाषा को प्रभावित करने वाले रूमी
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-11-2018 05:50 PM


  • फैनी पार्क्स की यात्रावृत्‍तांत में 1822 के मेरठ का वर्णन
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-11-2018 03:27 PM


  • मेरठ के लोगों द्वारा विस्मृत हुए अफगानी सरधना के नवाब
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-11-2018 06:07 PM


  • इंडोनेशिया और भारत के सदियों पुराने नाते
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     14-11-2018 12:55 PM


  • लक्ष्‍मी और अष्‍ट लक्ष्‍मी के दिव्‍य स्‍वरूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-11-2018 12:30 PM


  • प्रथम विश्‍व युद्ध के दौरान भारतीय सेना की यूरोप में स्थिति
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-11-2018 05:41 PM


  • कैसे खड़ी हो एक महिला कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न के खिलाफ़
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     11-11-2018 10:00 AM


  • प्रवास के समय पक्षियों की गति प्रभावित करने वाले कारक
    पंछीयाँ

     10-11-2018 10:00 AM