Machine Translator

अश्वत्थ

मेरठ

 23-04-2018 12:15 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

मूलतः ब्रह्म रूपाय मध्यतो विष्णु रुपिणः। अग्रतः शिव रुपाय अश्वत्त्थाय नमो नमः।।
-जिसके मूल में ब्रह्म है, मध्य में विष्णु और ऊपरी हिस्से में शिव बसे हैं ऐसे अश्वत्थ को मेरा नमन (स्कन्दपुराण)

अश्वत्थ- जिसे हिन्दू पीपल के नाम से भी जानते हैं और बौध धर्मीय बोधी वृक्ष के नाम से। इस वृक्ष का इन धर्मों में बहुत महत्वपूर्ण स्थान है। बुद्ध को इसी पेड़ के नीचे सर्वज्ञान प्राप्त हुआ था। सनातन, वैदिक धर्म के अनुसार इस वृक्ष में ब्रह्मा-विष्णु-महेश मतलब त्रिमूर्ति का वास होता है तथा इसे देववृक्ष कहा जाता है।

इस पेड़ का शास्त्रीय नाम फ़ायकस रेलिजिओसा (Ficus Religiosa) है तथा यह भारत और भारतीय उपमहाद्वीप का मूल-स्वदेशी वृक्ष है। यह पर्णपातीअर्ध-सदाबहार प्रकार का वृक्ष है अर्थात इसे किसी भी प्रकार की जमीन पर उगाया जा सकता है, बस इसे थोड़ा पानी और सूरज की रौशनी मिल जाए। इसका इस्तेमाल दमा, मधुमेह, दस्त, मिर्गी आदि बिमारियों के इलाज के लिए किया जाता है।

जब आप हवा को आस-पास मेहसूस नहीं कर सकते उस समय भी इस वृक्ष के पत्ते हिलते दिखाई देते हैं (इस पेड़ की सरंचना ऐसी है) जिस वजह से लोग मानते हैं कि इनमे देवों का वास होता है, कुछ लोग यह भी कहते हैं कि यह कोई भूत प्रेत का साया है।

भारत में इस पेड़ के चारों ओर चबूतरे बांधे जाते हैं, जो देवी-देवताओं की मूर्ति को स्थापित करने के लिए (जैसे छोटे-खुले मंदिर), यात्रियों को आराम करने के लिए अथवा गाँव के लोगों को इकठ्ठा हो वार्तालाप करने के लिए इस्तेमाल किये जाते हैं। सोमवती अमावस्या के दिन तथा सुबह-सुबह सूरज उगने से पहले लड़कियां एवं विवाहित स्त्रियाँ समृद्धि और सुख-शांति के लिए इसकी पूजा करती हैं।

गौतम बुद्ध को बोधगया में इसी वृक्ष के नीचे बैठ आत्मज्ञान हुआ था, इस पेड़ को बहुत बार नष्ट किया गया लेकिन इसकी एक डाली बच गयी थी जिसे फिर श्रीलंका के अनुराधापुर में सन 288 ईसा पूर्व के आस-पास लगाया गया। आज यह पेड़ दुनिया का सबसे पुराना आवृतबीजी वृक्ष है और इसे महाबोधी वृक्ष कहते हैं।

हिन्दू धर्म में इस पेड़ को वृक्ष राजा भी कहा जाता है क्यूंकि यह मान्यता है कि इसमें त्रिमूर्ति का वास है तथा कहा जाता है कि श्री कृष्ण इस पेड़ के नीचे ध्यान लगाये बैठते थे। भगवत गीता में उन्होंने कहा है कि-

अश्वत्थः सर्ववृक्षाणां देवर्षीणां च नारदः। गन्धर्वाणां चित्ररथः सिद्धानां कपिलो मुनिः।।
-सम्पूर्ण वृक्षों में पीपल, देवर्षियों में नारद, गन्धर्वों में चित्ररथ और सिद्धों में कपिल मुनि मैं हूँ।

इन सभी कारणों की वजह से इसे कृष्ण का रूप भी माना जाता है और ऋषि मुनी और भिक्षु इस पेड़ के नीचे ध्यान लगाते हैं।

1.आलयम: द हिन्दू टेम्पल एन एपिटोम ऑफ़ हिन्दू कल्चर- जी वेंकटरमण रेड्डी
2.https://hi.wikipedia.org/wiki/पीपल
3.https://en.wikipedia.org/wiki/Ficus_religiosa
4.https://www.gitasupersite.iitk.ac.in/srimad?htrskd=1&httyn=1&htshg=1&scsh=1&choose=1&&language=dv&field_chapter_value=10&field_nsutra_value=26



RECENT POST

  • मेरठ के फोटोग्राफर द्वारा दिखाई गयी आजादी से पहले के शाही राजघरानों की तस्वीरें
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     21-11-2018 01:57 PM


  • मेरठ के औघड़नाथ मंदिर का स्वयंभू शिवलिंग एवं अन्य प्रकार के शिवलिंग
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     20-11-2018 01:14 PM


  • जातिप्रथा, सतिप्रथा, अशिक्षा आदि के विरुद्ध खड़ा रामकृष्ण मिशन
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-11-2018 12:07 PM


  • बॉलीवुड में जैज़ का आगमन
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     18-11-2018 11:55 AM


  • हिंदी कविताओं और यहाँ तक कि हिंदी भाषा को प्रभावित करने वाले रूमी
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-11-2018 05:50 PM


  • फैनी पार्क्स की यात्रावृत्‍तांत में 1822 के मेरठ का वर्णन
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-11-2018 03:27 PM


  • मेरठ के लोगों द्वारा विस्मृत हुए अफगानी सरधना के नवाब
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-11-2018 06:07 PM


  • इंडोनेशिया और भारत के सदियों पुराने नाते
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     14-11-2018 12:55 PM


  • लक्ष्‍मी और अष्‍ट लक्ष्‍मी के दिव्‍य स्‍वरूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-11-2018 12:30 PM


  • प्रथम विश्‍व युद्ध के दौरान भारतीय सेना की यूरोप में स्थिति
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-11-2018 05:41 PM