Machine Translator

सहारनपुर का वानस्पतिक उद्यान

मेरठ

 15-04-2018 11:24 AM
पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

वानस्पतिक इतिहास किसी भी शहर या देश के लिए किसी महत्वपूर्ण बिंदु से कम नहीं है। भारत वनस्पतियों के दृष्टिकोण से विश्व के शिखर देशों में से एक है। यहाँ पर कई भौगोलिक विविधितायें हैं जिस कारण यहाँ पर वनस्पतियों में असंख्य विविधितायें देखने को मिलती हैं। भारतीय वनस्पतियों पर सर्वप्रथम यूरोपियों के आने के बाद ही काम हुआ जिसे होर्टस मालाबरिकस (Hortus Malabaricus) पुस्तक में संजो कर रखा गया है। मेरठ को अपना गढ़ बनाने के दौरान अंग्रेजों ने यहाँ से नजदीक ही एक वानस्पतिक उद्यान की स्थापना की। जैसा कि सहारनपुर हिमालय के नजदीक है तो यहाँ पर कई प्रकार के पौधों व जड़ीबूटियों की उपलब्धता थी जो कि इस स्थान को एक प्रमुख वानस्पतिक उद्यान होने का दर्जा प्रदान करने के लिए काफी थी।

सहारनपुर वनस्पति उद्यान (वर्तमान में बागवानी प्रयोग के रूप में और प्रशिक्षण केंद्र जाना जाता है) एक बहुत सुंदर उद्यान है। ब्रिटिश काल के दौरान यह 1779 में शुरू हुआ था जब मुस्लिम राजा ज़बाइता खान ने सात गांवों के राजस्व का खर्च सहारनपुर में बगीचे के रख-रखाव पर करने का फैसला किया। ईस्ट इंडिया कंपनी ने 1817 में इस उद्यान का अधिग्रहण किया और जॉर्ज गोवन पहली बार सहारनपुर वनस्पति उद्यान के अधीक्षक बने। कालांतर में जॉन फ़ोर्ब्स रॉयल 1823 ने उनका स्थान लिया था। कलकत्ता और सहारनपुर बागानों के लिए डी हूकर और जॉन फर्मिंजर ड्यूटी आदि ने यहाँ उत्कृष्ट किया। भारत का वनस्पति सर्वेक्षण विभाग, 13 फरवरी 1890 को हावड़ा में देश की वनस्पति की क्षमता का आकलन करने के लिए स्थापित किया गया। टैक्सोनॉमिकल अनुसंधान के लिए प्रमुख केंद्रों में से एक ऐतिहासिक दृष्टि से सहारनपुर वनस्पति उद्यान दूसरे नंबर पर देखा जाता है।

राष्ट्रीय महत्व के मामले में भारतीय वनस्पति उद्यान, कलकत्ता और विशाल पौधे संग्रह, फ्लोरिस्टिक अध्ययन, टैक्सोनॉमिक अनुसंधान विभिन्न पौधों की शुरूआत और अनुकूलन सहित आर्थिक महत्व के लिए वर्तमान में यह उद्यान महत्वपूर्ण बागवानी है। यहाँ पर औषधीय पौधों के परिचय और अनुकूलन सहित कई उल्लेखनीय शोध किए गए हैं। उद्यान को अब बागवानी प्रयोग और प्रशिक्षण केंद्र के रूप में जाना जाता है। इस उद्यान का और लन्दन के क्वींस उद्यान का एक गहरा ताल्लुक है, यहाँ से कई प्रकार के शोधों आदि को और गहन अध्ययन के लिए लन्दन भेजा जाता था।

1. https://www.tandfonline.com/doi/abs/10.1080/03068376208731764?journalCode=raaf19
2. http://www.isca.in/IJBS/Archive/v4/i6/3.ISCA-IRJBS-2015-052.pdf



RECENT POST

  • प्रथम विश्‍व युद्ध के दौरान भारतीय सेना की यूरोप में स्थिति
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-11-2018 05:41 PM


  • कैसे खड़ी हो एक महिला कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न के खिलाफ़
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     11-11-2018 10:00 AM


  • प्रवास के समय पक्षियों की गति प्रभावित करने वाले कारक
    पंछीयाँ

     10-11-2018 10:00 AM


  • आइये समझें एक स्वच्छता तंत्र को जो हो सकता है मेरठ के लिए लाभदायक
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     09-11-2018 10:00 AM


  • यातायात से जुड़े आम लेकिन इन खास नियमों के बारे में शायद ही हर भारतीय को पता हो
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     08-11-2018 10:00 AM


  • शिव पार्वती की प्रतिमा देती है दिवाली पर जुआ न खेलने का सन्देश
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     07-11-2018 12:31 PM


  • हज़ारों साल पुराना है टूथपेस्ट का इतिहास
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     06-11-2018 09:33 AM


  • जादूगरी की दुनिया के कुछ बेताज शहंशाह
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     05-11-2018 02:39 PM


  • रविवार वीडियो: खुशियों की चाबी है खुश रहने में
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     04-11-2018 10:00 AM


  • भारत को एकता के धागे में पिरो गए लौह पुरुष
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     03-11-2018 12:37 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.