Machine Translator

शिव लिंग का महत्व

मेरठ

 01-04-2018 09:20 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

शिव देव हैं, महादेव हैं, शिव को सनातनी देवी देवताओं में सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। शिव को कई रूपों में देखा जाता है जैसे- उमा महेश्वर, सदाशिव, नर्तक शिव, अर्धनारीश्वर आदि-आदि। नाम के अलावा शिव के कई रूप हैं इन्ही रूपों में से शिव का एक रूप है लिंग का। लिंग को एक चिन्ह के रूप में देखा जाता है जिसका कोई निश्चित आकार नहीं होता, यह अदृश्य होता है परन्तु फिर भी सभी जगहों पर व्याप्त रहता है।

प्राचीन हिंदू शास्त्र "लिंग पुराण" के अनुसार- सबसे महत्वपूर्ण लिंग गंध, रंग, स्वाद, आदि से रहित होता है, और इसे प्रकृति कहा जाता है। वेदों के काल के बाद लिंग भगवान शिव के अनवरत उत्पन्न होने वाले शक्ति का प्रतीक बन गया था। लिंग एक अंडे की तरह है और यह ब्रह्मांड का प्रतिनिधित्व करता है। लिंग यह प्रदर्शित करता है कि पृथ्वी पर जीवन का आरम्भ प्रकृति और पुरुष के मिलन से हुआ है। यह सत्य, ज्ञान, और अनंत-सत्य और अनंत का भी प्रतीक है। शिवलिंग निर्माता की प्राथमिक ऊर्जा को दर्शाता है।

किंवदंती यह है कि पार्वती ने कांचीपुरम में रेती (बालू) से शिवलिंग का निर्माण किया और शिव की पूजा की। इस लिंग को पृथ्वी लिंग के रूप में जाना जाता है, जो कि प्रमुख तत्व पृथ्वी को दर्शाती है। कई मंदिरों के शिवलिंग स्वयंभू होते हैं जो कि स्वयं एक रूप में दिखाई देते हैं और जिन्हें छेनी से नहीं बनाया जाता है, वहीँ दूसरी ओर खुद से हाथ से बनाया हुआ शिव लिंग भी मंदिरों में स्थापित किया जाता है। लिंग को जिस पीठ पर रखा जाता है उसे योनी पीठ के नाम से जानते हैं यह मातृत्व व संसार के निर्माण के रूप में जाना जाता है। शिव ही समस्त देवों के अधिपति हैं। शिव लिंगों में 12 ज्योतिर्लिंग प्रमुख हैं। ज्योतिर्लिंग उत्पत्ति के संबंध में पुराणों में अनेक मान्यताएं प्रचलित हैं। वेदानुसार ज्योतिर्लिंग यानी 'व्यापक ब्रह्मात्मलिंग' जिसका अर्थ है 'व्यापक प्रकाश'। शिवलिंग के 12 खंड हैं, शिवपुराण के अनुसार ब्रह्म, माया, जीव, मन, बुद्धि, चित्त, अहंकार, आकाश, वायु, अग्नि, जल और पृथ्वी को ज्योतिर्लिंग या ज्योति पिंड कहा गया है। भारत भर में अलग अलग स्थानों पर इन ज्योतिर्लिंगों की स्थापना की गयी है।

1. लिंग पुराण
2. https://www.thoughtco.com/what-is-shiva-linga-1770455
3. https://www.artofliving.org/mahashivratri/significance-of-shiva-lingam
4. http://www.templenet.com/beliefs/shivling.htm



RECENT POST

  • मेरठ के औघड़नाथ मंदिर का स्वयंभू शिवलिंग एवं अन्य प्रकार के शिवलिंग
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     20-11-2018 01:14 PM


  • जातिप्रथा, सतिप्रथा, अशिक्षा आदि के विरुद्ध खड़ा रामकृष्ण मिशन
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-11-2018 12:07 PM


  • बॉलीवुड में जैज़ का आगमन
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     18-11-2018 11:55 AM


  • हिंदी कविताओं और यहाँ तक कि हिंदी भाषा को प्रभावित करने वाले रूमी
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-11-2018 05:50 PM


  • फैनी पार्क्स की यात्रावृत्‍तांत में 1822 के मेरठ का वर्णन
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-11-2018 03:27 PM


  • मेरठ के लोगों द्वारा विस्मृत हुए अफगानी सरधना के नवाब
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-11-2018 06:07 PM


  • इंडोनेशिया और भारत के सदियों पुराने नाते
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     14-11-2018 12:55 PM


  • लक्ष्‍मी और अष्‍ट लक्ष्‍मी के दिव्‍य स्‍वरूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-11-2018 12:30 PM


  • प्रथम विश्‍व युद्ध के दौरान भारतीय सेना की यूरोप में स्थिति
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-11-2018 05:41 PM


  • कैसे खड़ी हो एक महिला कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न के खिलाफ़
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     11-11-2018 10:00 AM